एक गेंदबाज एक ही ओवर फेंक सकता है; पहले सुपर ओवर का नॉटआउट बल्लेबाज दूसरे में भी बैटिंग कर सकता है


12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब और मुंबई इंडियंस के मुकाबले का नतीजा सुपर ओवर में आया था। पंंजाब के क्रिस गेल और मयंक अग्रवाल ने मैच के दूसरे सुपर ओवर में टीम को जीत दिलाई थी।

रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब और मुंबई इंडियंस के मुकाबले का नतीजा सुपर ओवर में आया। वो भी एक नहीं, बल्कि दो सुपर ओवर हुए। कई फैंस का मानना है कि मैच में मुंबई को हार इसलिए मिली क्योंकि दूसरे सुपर ओवर में बुमराह की जगह बोल्ट ने गेंदबाजी की। आखिर ऐसा क्यों हुआ? हम आपको इस बारे में बता रहे हैं-

मैच में दूसरा सुपर ओवर क्यों लेना पड़ा?
पहले सुपर ओवर में स्कोर बराबर हो गया था। इस कारण ऐसा करना पड़ा। 2019 में हुए वनडे वर्ल्ड कप से पहले सुपर ओवर टाई होने पर अधिक बाउंड्री लगाने वाली टीम विजेता बनती थी। पर वर्ल्ड कप के बाद इसमें बदलाव किया गया।

आखिरकार सुपर ओवर को लागू क्यों किया गया?
मैच टाई होने पर रिजल्ट निकालने के लिए इसका उपयोग किया जाता था। पहले यदि नॉकआउट मैच टाई होता था, तो ग्रुप में अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम विजेता बन जाती थी। पहली बार 2008 में न्यूजीलैंड-विंडीज के टाई टी-20 में इसका उपयोग किया गया था।

सुपर ओवर के गेंदबाज-बल्लेबाज कैसे चुने जाते हैं?
हर टीम की ओर से तीन बल्लेबाज और एक गेंदबाज का नाम देना होता है। दो बल्लेबाज के आउट होने पर पारी खत्म हो जाती है। यदि सुपर ओवर टाई हो जाता है तो दूसरे सुपर ओवर में नया गेंदबाज गेंद फेंकेगा। नियम के अनुसार, एक गेंदबाज को एक ही बार मौका मिलता है। इसी कारण मुंबई की ओर से बुमराह को दूसरे सुपर ओवर में गेंदबाजी नहीं मिली।

वहीं यदि कोई बल्लेबाज एक बार आउट हो जाता है तो दूसरी बार नहीं उतर सकता। लेकिन यदि वह पहले सुपर ओवर में बल्लेबाजी करते हुए नाबाद रहता है तो वह दूसरे सुपर ओवर में भी उतर सकता है।

क्या सभी टाई मैच में सुपर ओवर का उपयोग होता है?
वनडे में इसका उपयोग आईसीसी इवेंट के नाॅकआउट मैच में होता है। आईसीसी इवेंट के ग्रुप स्टेज के मुकाबले टाई होने पर दोनों टीम को बराबर-बराबर पाॅइंट दिए जाते हैं। टी20 में कोई भी मैच यदि टाई होता है तो उसमें सुपर ओवर का उपयोग किया जाता है।

कितने मैच का रिजल्ट सुपर ओवर से आया है?
वनडे में एक जबकि टी-20 के 14 मैच का रिजल्ट सुपर ओवर से आया। महिला इंटरनेशनल की बात की जाए तो एक टी-20 मैच में इसका उपयोग किया गया।‌ आईपीएल की बात की जाए तो अब तक 13 मैच में सुपर ओवर का उपयोग किया गया है।

सीजन शुरू होने के पहले सभी कप्तानों ने फैसला किया था कि मैच शुरू होने के साढ़े 4 घंटे के अंदर सुपर ओवर शुरू नहीं हुआ तो दोनों टीमों को 1-1 अंक मिलेंगे।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply