एनआईए ने आरोपियों के तार दाऊद से जुड़े होने का शक जताया; कोर्ट से कहा- जिन देशों से सोना पहुंचा वहां ‘डी’ गैंग एक्टिव है


  • Hindi News
  • National
  • Kerala Gold Smuggling Case Link To Dawood Ibrahim Gang; Here’s Latest Updates From National Investigation Agency (NIA)d

कोच्चि25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

केरल गोल्ड स्मगलिंग में दाऊद इब्राहिम के शामिल होने की बात सामने आई है। दाऊद 1993 में हुए मुंबई बम धमाके के बाद से भारत से फरार है। -फाइल फोटो

  • गोल्ड स्मगलिंग का यह मामला 5 जुलाई को सामने आया था, कस्टम विभाग के अफसरों ने एक डिप्लोमेटिक बैगेज से 15 करोड़ रु. कीमत का सोना पकड़ा था
  • गोल्ड स्मगलिंग मामले के दोनों आरोपी तंजानिया और दुबई गए थे, ये दोनों देश ऐसे हैं जहां पर दाऊद की ‘डी’ कंपनी का गैर कानूनी धंधा चलता है

केरल गोल्ड स्मगलिंग के तार अंडरवर्ल्ड से जुड़ रहे हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को शक है आरोपियों का संपर्क गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम रहा है। एजेंसी ने बुधवार को कोच्ची एनआईए कोर्ट में सौंपे गए लिखित जवाब में यह बात कही। एजेंसी ने दो आरोपियों रमीज केटी और सरफुद्दीन की ओर से दाखिल जमानत याचिका का विरोध करते हुए यह जवाब सौंपा। कोर्ट से जमानत मंजूर नहीं करने का अनुरोध भी किया।

गोल्ड स्मगलिंग का यह मामला 5 जुलाई को सामने आया था। कस्टम विभाग के अफसरों ने एक डिप्लोमेटिक बैगेज पकड़ा था। बैगेज यूएई से भेजा गया था। विदेश मंत्रालय से इजाजत मिलने के बाद इसे खोला गया था। जांच के बाद बैगेज में करीब 15 करोड़ रुपए कीमत का 30 किलोग्राम सोना मिला था। इस मामले में एनआईए ने रमीज केटी और सरफुद्दीन को आरोपी बनाया है।

‘तंजानिया में बंदूक बेचने वाली दुकानों पर गए थे आरोपी’

एनआईए ने कोर्ट में कहा, ‘‘दोनों आरोपियों ने तंजानिया की यात्रा की थी। वहां अफ्रीकी देशों की बंदूकें बेचने वाली दुकानों में गए थे। तंजानिया में रमीज ने डायमंड बिजनेस का लाइसेंस लेने की कोशिश की। बाद में वे यूएई पहुंचे। वहां से सोना तस्करी कर केरल लाए। तंजानिया और दुबई दोनों ही ऐसी जगहों पर दाऊद इब्राहिम का ‘डी’गैंग एक्टिव है। तंजानिया में डी-कंपनी के मामले एक दक्षिण भारतीय व्यक्ति फिरोज ओएसिस देखता है। हमें शक है कि आरोपी रमीज का लिंक डी-कंपनी से है।’’

नवंबर 2019 में गिरफ्तार हुआ था रमीज

गोल्ड स्मगलिंग का आरोपी रमीज नवंबर 2019 में गिरफ्तार हुआ था। उसे 13.22 एमएम बोर की राइफल्स की स्मगलिंग करने के आरोप में पकड़ा गया था। उसकी गिरफ्तारी के समय गोल्ड स्मगलिंग जारी थी। एनआईए ने कोर्ट को बताया कि उनके पास आरोपी सरफुद्दीन की एक ऐसी तस्वीर भी है, जिसमें वह तंजानिया में हाथों में राइफल थामे नजर आ रहा है।

इस मामले में हो चुकी है केरल सरकार की आलोचना

इस मामले को लेकर केरल सरकार की आलोचना हो रही है। पहले मामले की जांच कस्टम डिपार्टमेंट ने शुरू की थी। बैग जिस डिप्लोमेट के नाम पर लाया गया था, उसे हिरासत में लिया गया था। पूछताछ की गई थी। राज्य के कुछ अफसरों से इसके तार जुड़े थे। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के प्रिंसिपल सेक्रेटरी आईएस अधिकार एम शिवशंकर का नाम सामने आया था। इसके बाद मुख्यमंत्री ने उन्हें पद से हटा दिया था। बाद में विदेश मंत्रालय ने जांच एनआईए को सौंपने की मंजूरी दे दी थी।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply