एमएस धोनी के संन्यास पर शेन वॉर्न ने कहा, सोच रहा हूं क्या उन्हें ‘द हंड्रेड’ में खिला पाऊंगा


महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले पूर्व भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी अगले साल ‘द हंड्रेड’ टूर्नामेंट में उनकी टीम लंदन स्पिरिट की ओर से खेलने पर विचार करें। दो बार विश्व कप के खिताब के जीतने वाले धोनी ने शनिवार को इंस्टाग्राम पोस्ट के जरिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की। वॉर्न चाहते है कि धोनी ‘द हंड्रेड’ में खेलने के बारे में गंभीरता से विचार करें।

वार्न ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा कि मैं सोच रहा हूं कि क्या मैं उसे अगले साल लंदन स्पिरिट का प्रतिनिधित्व करने के लिए मना लूंगा। मैं उन्हें फोन कर के जानना चाहूंगा कि क्या वह लॉर्ड्स में खेलना चाहेंगे। एमएस, इसके लिए रकम का इंतजाम कर लूंगा। ‘द हंड्रेड’ 100 गेंद की प्रति टीम प्रारूप का टूर्नामेंट है जिसे इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड इस साल शुरू करना चाहता था लेकिन कोविड-19 के कारण उसे अगले साल के लिए स्थगित कर दिया गया। धोनी को विदाई देते हुए वॉर्न ने कहा कि एक शानदार क्रिकेटर, आप ऐसे कई मैचों के बारे में जानते होंगे जिसमें उन्होंने अपने दम पर भारत को जीत दिलाई।

एमएस धोनी के संन्यास पर इमोशनल हुआ ICC, कहा-आपने पूरी पीढ़ी को प्रभावित किया

उन्होंने कहा कि आप उनकी कप्तानी के बारे में सोचते है। वह एक शानदार प्रतियोगी और अद्भुत खिलाड़ी थे। वह इतिहास में एक सर्वकालिक महान विकेटकीपर-बल्लेबाज के रूप में जाने जाएंगे। क्रिकेट के इतिहास में धोनी इकलौते कप्तान हैं जिन्होंने सभी आईसीसी ट्रॉफी जीती हैं। उसके नेतृत्व में भारत ने 2007 का टी20 विश्व कप, 2010 और 2016 का एशिया कप, 2011 का एकदिवसीय विश्व कप और 2013 का चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। उन्होंने कहा कि वह शांत रहते हैं, जो शानदार है। भारत हो या चेन्नई सुपरकिंग्स वह अपनी टीम से हमेशा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन लेने में सक्षम रहते है।

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन और माइकल एथर्टन ने भी धोनी को सीमित ओवरों का सर्वश्रेष्ठ कप्तान और महान फिनिशर बताते हुए उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से विदाई दी। हुसैन ने कहा कि वह दबाव में शांत और एकाग्र रहता था, सबसे शानदार फिनिशरों में से एक, आप तब तक मैच नहीं जीत सकते जब तक आपने धोनी का विकेट नहीं लिया हो। एथर्टन ने कहा कि मुझे विश्व कप 2011 के फाइनल में वानखेड़े स्टेडियम में लगाया गया उनका छक्का याद है। वह शानदार खिलाड़ी रहे है।

सुनील गावस्कर ने बताया, क्यों धोनी ने अचानक से लिया संन्यास का फैसला

धोनी भारत के लिए अंतिम बार विश्व कप सेमीफाइनल में जुलाई 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले थे। उन्होंने 538 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 17,000 से ज्यादा रन बनाए थे। इस 39 साल के खिलाड़ी ने इंडियन प्रीमियर लीग के तीन खिताब भी जीते है। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और तेज गेंदबाज वसीम अकरम ने व्यापक स्तर पर शांत स्वभाव के लिए धोनी की सराहना की।
उन्होंने कहा कि मैंने उसे उस समय देखा था जब उसने अपना क्रिकेट करियर शुरू किया था। उसने पहले पाकिस्तान दौरे में अपनी लंबे बालों और बल्लेबाजी को लेकर काफी सुर्खियां बटोरी थी। उसने उस दौरे पर रन (जिसमें पहला टेस्ट शतक भी शामिल हैं) बनाए थे।

अकरम ने कहा कि एक कप्तान के तौर पर वह हर परिस्थिति में शांत रहते थे। कप्तान के तौर पर जब आप शांत रहते हो तो सही फैसले लेते हो। भारतीय महिला क्रिकेट टीम की एकदिवसी कप्तान मिताली राज ने भी धोनी को शानदार करियर के लिए बधाई थी। उन्होंने कहा कि इस इंसान ने सात नंबर की जर्सी को अमर कर दिया। उसके तेज और शांत दिमाग ने उसे कैप्टन कूल का तमगा दिया। इस व्यक्ति ने दो विश्व कप ट्रॉफियों के साथ अरबों भारतीय सपनों को पूरा किया और जिसने अपने अनौपचारिक शैली में खेल को अलविदा कहा। शानदार करियर के लिए एमएस धोनी को बधाई।
 





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply