करीब 70 फीसदी भारतीयों को मिलता है एच-1बी वीजा, जानिए अमेरिकी कोर्ट के फैसले का असर और फायदे के बारे में


  • Hindi News
  • Business
  • Know About The Impact And Benefits Of The US Court’s Decision On H 1B And Other Visas

नई दिल्ली14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एच-1बी समेत अन्य प्रकार के वीजा पर 24 जून से प्रतिबंध लगा दिया था।

  • अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जून में कई प्रकार के वीजा पर रोक लगा दी थी
  • प्रवासी कामगारों को दिए जाने वाले एच-1बी वीजा के सबसे ज्यादा लाभ भारतीयों को
  • अमेरिका में काम करने के लिए 6 साल के लिए दिया जाता है एच-1बी वीजा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसी साल जून में एच-1बी वीजा समेत विदेशियों को दिए जाने वाले अन्य वीजा पर बैन लगा दिया था। यह बैन 31 दिसंबर 2020 तक के लिए लगाया गया था। अब अमेरिका के कैलिफोर्निया की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के जज जेफ्री व्हाइट ने ट्रम्प प्रशासन के बैन के आदेश पर रोक लगा दी है। आइए आपको अमेरिकी कोर्ट के फैसले का असर और फायदों के बारे में बताते हैं…

क्या था ट्रम्प प्रशासन का फैसला?

अमेरिकी राष्ट्रपति के पास कुछ विशेष अधिकार होते हैं, जिसका इस्तेमाल करते हुए ही उन्होंने अमेरिका में वैध रूप से काम करने वाले अप्रवासी कुशल कामगारों के नए दाखिलों पर इस साल के आखिर तक प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी। ये फैसला 24 जून से लागू हो गया था। फैसले के लागू होते ही 31 दिसंबर तक किसी भी विदेशी कामगार को एच-1बी वीजा या अमेरिका में काम करने के लिए मिलने वाले दूसरे वीजा जारी नहीं किया जा रहा है। इस फैसले का असर एच-1बी के अलावा एल-1, एच-4, जे-1 और एच-2 पर भी हुआ था।

किसे मिलता है कौन सा वीजा?

  • एच-1बी: अमेरिका में काम करने वाले विदेशी कामगारों को।
  • एल-1: उन विदेशियों को जिनका अमेरिका स्थित कंपनियों में ट्रांसफर होता है।
  • एच-4: एच-1बी वीजाधारकों के साथ रहने वाले पति-पत्नियों को।
  • जे-1: सांस्कृतिक, शिक्षा के एक्सचेंज प्रोग्राम के इमिग्रेशन के लिए।
  • एच-2: नॉन-एग्रीकल्चर इंडस्ट्री में काम पर आने वाले कामगारों के लिए।

क्या होता है एच-1बी वीजा?

ये एक गैर-प्रवासी वीजा होता है, जो किसी विदेशी नागरिक या कामगार को अमेरिका में काम करने के लिए 6 साल के लिए जारी किया जाता है। जो कंपनियां अमेरिका में हैं, उन्हें ये वीजा ऐसे कुशल कर्मचारियों को रखने के लिए दिया जाता है, जिनकी अमेरिका में कमी हो। इस वीजा को पाने की कुछ शर्तें भी होती हैं। जैसे- कर्मचारी को ग्रेजुएट होने के साथ-साथ किसी एक क्षेत्र में स्पेशियलिटी भी हासिल होनी चाहिए। इसके अलावा इसे पाने वाले कर्मचारी की सालाना तनख्वाह 40 हजार डॉलर यानी 45 लाख रुपए से ज्यादा होनी चाहिए।

एच-1बी वीजा का दूसरा लाभ?

एच-1बी वीजा अमेरिका में बसने की राह भी आसान करता है। एच-1बी वीजा धारक 5 साल बाद अमेरिका की स्थाई नागरिकता या ग्रीन कार्ड के लिए भी अप्लाय कर सकते हैं।

कौन सी कंपनियां करती हैं इस वीजा का इस्तेमाल?

टीसीएस, विप्रो, इन्फोसिस जैसी 50 से ज्यादा भारतीय आईटी कंपनियों के अलावा गूगल, माइक्रोसॉफ्ट जैसी अमेरिकी कंपनियां इस वीजा का इस्तेमाल करती हैं।

हर साल कितने एच-1बी वीजा जारी करता है अमेरिका?

अमेरिका हर साल 85 हजार एच-1बी वीजा जारी करता है। इसमें 65 हजार वीजा कुशल विदेशी कर्मचारियों के लिए होते हैं। वहीं अन्य 20 हजार वीजा उनको दिए जाते हैं जिन्होंने अमेरिकी संस्था से मास्टर्स या कोई बड़ी डिग्री ली हो।

एच-1बी वीजा में भारतीयों की कितनी हिस्सेदारी?

विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर की ओर से संसद में दी गई जानकारी के मुताबिक, पिछले 5 साल में जारी किए एच-1बी वीजा में 70 फीसदी से ज्यादा भारतीयों को मिले हैं। यूएस सिटिजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेज (USCIS) के अनुसार 2020-21 में एच-1बी वीजा रजिस्ट्रेशन के लिए 2 लाख 75 हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं। जिसमें से 67.7 प्रतिशत, यानी करीब दो लाख आवेदन केवल भारत से हैं। वहीं, चीन से करीब 13.2 फीसदी आवेदन आए हैं।

क्या होगा कोर्ट के फैसले का असर?

  • इस फैसले के बाद एच-1बी समेत सभी प्रकार के वीजा पर लगा बैन हट जाएगा।
  • दूसरे देशों में रह रहे सभी प्रकार के वीजाधारक अब अमेरिका जा सकेंगे।
  • जिन लोगों का कोरोनाकाल में अमेरिका ट्रांसफर हुआ है, वे अब नए ऑफिस में जाकर ज्वाइन कर सकेंगे।
  • अपनों से दूर रह रहे पति-पत्नी अपनों के पास अमेरिका जा सकेंगे।
  • 2020-21 में लॉटरी ड्रॉ पूरा करने वाले एच-1बी वीजाधारक काम की शुरुआत के लिए अमेरिका जा सकेंगे।
  • जिन वीजाधारकों के रिन्युअल पर रोक लगी है, वे अपने वीजा की अवधि बढ़वा सकेंगे।
  • कामगारों की कमी का संकट झेल रही कंपनियां दूसरे देशों से कर्मचारी बुला सकेंगी।
  • सांस्कृतिक-शिक्षा एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत अमेरिका का दौरा किया जा सकेगा।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply