केपी ओली का आरोप, नेपाल में कोरोना वायरस संक्रमित 85 फीसदी लोग ऐसे हैं जो भारत से लौटे हैं


नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली ने बुधवार को दावा किया कि उनके देश में कोरोना वायरस से जितने लोग संक्रमित हुए हैं, उनमें करीब 85% ऐसे हैं जो भारत से लौटे हैं। उनका दावा, दोनों देशों के बीच सीमा विवाद के बीच आया है। भारत ने सख्त लहजे में नेपाल से क्षेत्रीय दावे के ‘कृत्रिम विस्तार’ का रूख नहीं अख्तियार नहीं करने को कहा था। उससे पहले नेपाल ने लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा पर दावा करते हुए नया मानचित्र जारी किया था।

नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, बुधवार को कोरोना वायरस के 279 नये मरीज आने से देश में इस महामारी के मामले बढ़कर 4364 हो गये। कम से कम 15 मरीजों की जान जा चुकी है। भारत की सीमा से सटे दक्षिण नेपाल के प्रांत नंबर दो में कोविड-19 के सर्वाधिक मामले हैं। ओली सरकार कोविड-19 महामारी को लेकर विभिन्न वर्गों के निशाने पर है।

आलोचकों के अनुसार, देश में दो महीने से अधिक समय तक लॉकडाउन के बावजूद कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। भारत-नेपाल सीमा से सटे क्षेत्रों में हजारों लोग क्वारंटाइन में रखे गए हैं। लेकिन ये क्वारंटाइन सेंटर मूलभूत स्वच्छता सुविधाओं के अभाव में हॉटस्पॉट बनते जा रहे हैं। ओली ने सांसदों के सवालों का जवाब देते हुए संसद में कहा, ”नेपाल में जो लोग कोविड-19 संक्रमित पाए गए हैं, उनमें 85 प्रतिशत ऐसे हैं जो भारत से लौटे हैं।”

ये भी पढ़ें: हमारी नीति श्रीलंका-नेपाल की जमीन हड़पने वाली नहीं- नितिन गडकरी

उन्होंने कहा कि भारत से लोगों की आवाजाही शुरू होने के साथ ही नेपाल में कोरोना वायरस के मामले बस एक ही महीने में दोगुने हो गए। प्रधानमंत्री ने कहा कि अप्रैल-मई में केवल 7400 नेपाली ही भारत से आए थे लेकिन मई-जून में 22,000 लोग भारत से लौटे और अब हर दिन भारत से 7000-8000 लोग आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि खचाखच भरी ट्रेनों और बसों से कई लोग भारत से लौटे हैं और संभवत: वे इस यात्रा के दौरान इस वायरस से संक्रमित हो गए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की तरफ से 8 मई को उत्तराखंड में धारचूला और लिपुलेख दर्रे को जोड़ने वाले, 80 किलोमीटर लंबे, रणनीतिक रूप से अहम मार्ग का उद्घाटन किये जाने पर भारत और नेपाल के बीच रिश्ते में तनाव आ गया। 

नेपाल ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया दी और कहा कि यह राजमार्ग उसके क्षेत्र से गुजरता है। भारत ने यह कहते हुए उसके दावे को खारिज कर दिया कि यह रोड पूरी तरह भारत की सीमा के अंदर है।

ये भी पढ़ें: नए पॉलिटिकल मैप को कानूनी तौर पर समर्थन के लिए नेपाल की संसद में चर्चा





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply