छतरपुर में दुष्कर्म के बाद की गई थी 5 साल की बच्ची की हत्या, नाजुक अंगों में मिले चोट के निशान


  • रविवार को आई पीएम रिपोर्ट में बच्ची के नाजुक अंग और सिर में चोट के निशान मिले हैं
  • पहले बताया गया था कि कुएं में गिरने से हुई थी बच्ची की मौत, अब 4 संदिग्ध हिरासत में
  • कमलनाथ ने कहा- शिवराज सरकार के राज में लॉकडाउन में भी बच्चियां सुरक्षित नहीं हैं

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 08:13 PM IST

छतरपुर. यहां 29 मई की सुबह 5 साल की बच्ची का शव घर से कुछ दूरी पर स्थित कुएं में मिला था। पुलिस ने एफआईआर दर्ज करके जांच शुरू की थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद इस मामले में नया मोड़ आ गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस घटना को शर्मसार करने वाली बताया है। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार में लॉकडाउन में भी बच्चियां सुरक्षित नहीं हैं। इस बीच, पीड़िता के गांव पहुंचे आईजी अनिल शर्मा ने कहा- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। घटना छतरपुर के नौगांव थाना क्षेत्र में लुगासी चौकी के बनगायं गांव की है। 

शुक्रवार सुबह मिला था बच्ची का शव

बनगायं गांव में गुरुवार रात पीड़ित बच्ची अपने दादा के साथ सोई थी। शुक्रवार सुबह बच्ची का शव मकान से करीब 500 मीटर दूर कुएं में मिला था। पुलिस ने पहुंचकर जांच की और शव का पोस्टमार्टम कराया। हालांकि, इस मामले में परिजन पहले से ही बच्ची की हत्या किए जाने की बात कह रहे थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची के सिर में एवं नाजुक अंगों में चोट की बात सामने आई। डॉक्टर ने बच्ची के साथ दुष्कर्म और इसके बाद हत्या की पुष्टि की।

सोमवार को आईजी छतरपुर-सागर मौके पर पहुंचे मामले की जांच की। 

रविवार दोपहर छतरपुर के पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ बनगायं गांव पहुंचे। उन्होंने थाना पुलिस को इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई करने का निर्देश दिया। पुलिस ने गांव के ही चार संदिग्धों को इस मामले में हिरासत में ले लिया है।

छतरपुर में दुष्कर्म के बाद की गई थी 5 साल की बच्ची की हत्या, नाजुक अंगों में मिले चोट के निशान
तीन दिन पहले इसी कुएं में मिली थी मासूम बच्ची की लाश। 

घटना के बाद टीआई नहीं पहुंचे गांव
पीड़ित परिवार घटना के रोज से ही बच्ची की हत्या किए जाने की बात कर रहा था, लेकिन पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही थी। यहां तक कि इस गंभीर घटना के बाद नौगांव थाना प्रभारी बैजनाथ शर्मा गांव नहीं पहुंचे। शनिवार को पीड़ित परिवार ने एसपी से मिलकर पुलिस पर लापरवाही करने और मामले को दबाने का आरोप लगाया। इसके बाद रविवार को पीएम रिपोर्ट आने पर एसपी बनगायं पहुंचे। वहां से उन्होंने फोन लगाकर टीआई शर्मा को बुलाया, तब वह गांव पहुंचे।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply