जेपी नड्डा ने कहा- बंगाल की जनता ममता बनर्जी की ‘निरंकुश सरकार’ को उखाड़ फेंकेगी


बीजेपी ने पश्चिम बंगाल के कोलकाता और हावड़ा में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं तथा समर्थकों पर पुलिस की कार्रवाई के लिए तृणमूल सरकार पर जोरदार हमला किया और कहा कि प्रदेश की जनता ने ममता बनर्जी की ”निरंकुश” सरकार को उखाड; फेंकने का मन बना लिया है क्योंकि वहां अब लोकतंत्र नहीं बचा है।

राज्य में भगवा दल के कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ भाजपा की युवा इकाई भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने यह प्रदर्शन मार्च निकाला था। इस दौरान उनके द्वारा अवरोधक लांघने की कोशिश करने पर कई स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हो गई। पथराव हुआ, सड़कों को जाम किया गया और टायरों में आग भी लगाई गई। पुलिस कर्मियों ने कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए पानी की बौछारों, आंसू गैस का इस्तेमाल करने के साथ-साथ लाठियां भांजी।

इस घटना के बाद पार्टी की ओर से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के खिलाफ हमले का नेतृत्व करते हुए नड्डा ने कहा कि वह उन्हें साफ बता देना चाहते हैं कि भाजपा के कार्यकर्ताओं ने बंगाल के समृद्ध गौरव को वापस दिलाने और राज्य की ”भ्रष्ट, हिंसात्मक और तानाशाही” सरकार के खिलाफ लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने का संकल्प ले लिया है। उन्होंने कहा, ”बंगाल की जनता उनके शासन को उखाड़ फेंकेगी। बंगाल के समृद्ध गौरव को बचाने के लिए भाजपा का संघर्ष जारी रहेगा।

नड्डा ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ”ममता दीदी द्वारा राज्य की शक्ति के दुरुपयोग के बावजूद हम बंगाल की जनता के साथ खड़े हैं। हमारे भाजयुमो के बहादुर कार्यकर्ताओं ने उन्हें सचिवालय को बंद करने पर बाध्य कर दिया। यह इस बात की स्वीकारोक्ति है कि उन्होंने जनता का विश्वास खो दिया है।”

पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने पार्टी कार्यकर्ताओं पर पुलिस की कार्रवाई को लोकतांत्रिक विरोध दर्ज करने के अधिकार के खिलाफ राज्य की तृणमूल कांग्रेस की सरकार का ”तानाशाही रूप करार दिया

उन्होंने दावा किया कि इस प्रकार लाठी-डंडे और पुलिसिया दमन से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य में भाजपा के विस्तार को नहीं रोक सकेंगी। प्रसाद ने कहा, ”बंगाल में लोकतंत्र नहीं है। वहां जो भी विरोध करता है उसको या तो केस में फंसा दिया जाता है या फिर शासन द्वारा परेशान किया जाता है या फिर हत्या की स्थिति भी आ जाती है।”

उन्होंने कहा, ”बंगाल में आज लोकतांत्रिक विरोध दर्ज करने के खिलाफ जिस तरह से वहां की सरकार का तानाशाही रूप सामने आया है, भाजपा उसकी भर्त्सना करती है।” प्रसाद ने दावा किया कि पुलिस की कार्रवाई में भाजपा के 1500 से ज्यादा कार्यकर्ता घायल हुए हैं। इन कार्यकर्ताओं में पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अरविंद मेनन और प्रदेश के उपाध्यक्ष राजू बनर्जी सहित कई अन्य नेता शामिल हैं।

उन्होंने आशंका जताई की कि पुलिस की ओर से की गई पानी की बौछार के दौरान, इस्तेमाल किए गए पानी में रसायन मिला हुआ था। भाजपा नेता ने ममता बनर्जी से पूछा, ”क्या लगता है कि आप लाठी-डंडे और पुलिसिया दमन से भाजपा के विस्तार को रोक लेंगी? आप इसमें सफल नहीं होंगी। पहले भी आपने रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन प्रदेश की जनता ने हमें पिछले लोकसभा चुनाव में 18 सीटें दी।”

उन्होंने दावा किया कि बंगाल की जनता बदलाव चाहती है, इसलिए ”डर, खौफ और दमन की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा, ”बंगाल के लोगों को हम आश्वस्त करना चाहते हैं कि बंगाल में बदलाव के लिए भाजपा सतत तैयार रहेगी। जनता की परेशानियों पर शांतिपूर्ण तरीके से लोकतांत्रिक आवाज उठाती रहेगी। बंगाल में बदलाव भाजपा करेगी। बंगाल की जमीनी हकीकत ये बताती है कि अगला विधानसभा चुनाव जब भी होगा, वहां भाजपा की सरकार बनना तय है।

प्रसाद ने दावा किया कि बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और ममता बनर्जी की राजनीतिक जमीन खिसक रही है और इसका प्रमाण पिछला लोकसभा चुनाव परिणाम है। उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले दो महीनों के भीतर 115 भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की गई है।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply