डाटा साइंस के क्षेत्र में अगस्त अंत में 93,500 से ज्यादा जॉब ऑपनिंग थीं देश में


  • Hindi News
  • Business
  • Above 93500 Job Opportunities In The Field Of Data Science At The End Of August

18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश में सबसे ज्यादा 23% नौकरियां बेंगलुरु में हैं, इसके बाद दिल्ली/एनसीआर में 20% और मुंबई में करीब 15% नौकरियां उपलब्ध हैं

  • 7 साल से ज्यादा अनुभव वाले मिड और सीनियर लेवल प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ रही है
  • अगस्त में दुनियाभर के कुल एनालिटिक्स जॉब्स में से 9.8% ओपनिंग अकेले भारत में थीं

अगस्त के आखिर तक देश में डाटा साइंस की नौकरियों के 93,500 से ज्यादा स्थान खाली पड़े हुए थे। यह बात एडटेक कंपनी द्वारा कराए गए ग्रेट लर्निंग अध्ययन की रिपोर्ट में कही गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोनावायरस महामारी के बावजूद एनालिटिक्स से जुड़े क्षेत्र में काफी नौकरियां हैं। यही नहीं अगस्त 2020 के अंत में दुनियाभर में जितनी भी एनालिटिक्स जॉब ऑपनिंग थीं, उसमें 9.8 फीसदी योगदान अकेले भारत का था।

इस साल जनवरी में दुनिया के कुल एनालिटक्स जॉब्स में भारत का योगदान 7.2 फीसदी था। इस सेक्टर में वेकेंसी फरवरी के 1,09,000 से घटकर मई में 82,500 पर आ गई थी। इसके बावजदू उद्योग के प्रमुख सेक्टर्स में कर्मचारियों की भारी मांग बनी हुई है।

एनालिटिक्स क्षेत्र में ज्यादा जॉब के ये हैं कारण

देश में इन सेक्टर्स में ज्यादा नौकरियां क्यों उपलब्ध हैं? इस बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय एनालिटिक्स स्टार्टअप्स में साल-दर-साल फंडिंग बढ़ रही है। देश में एनालिटिक्स क्षमता बढ़ाने के लिए निवेश हो रहा है। और कोरोनावायरस के कारण भारतीय कंपनियों को ज्यादा जॉब आउटसोर्स किए जा रहे हैं।

एमएनसी, आईटी व केपीओ कंपनियों में बड़े पैमाने पर हो रही बहाली

अभी ज्यादातर नौकरियां एमएनसी और घरेलू आईटी व केपीओ कंपनियों में हैं, जो नौकरियों को भारत में शिफ्ट कर रही हैं और बड़े पैमाने पर बहाली कर रही हैं। अध्ययन में इस साल डाटा साइंस के जॉब की संभावना पर पड़ताल की गई थी। इसमें यह भी जानने की कोशिश की गई कि इन सेक्टर्स की वेकेंसीज पर कोरोनावायरस महामारी का क्या असर हुआ है। अध्ययन में यह भी पता चला कि 7 साल से ज्यादा अनुभव वाले मिड और सीनियर लेवल प्रोफेशनल्स की मांग बढ़ रही है। अध्ययन के मुताबिक 2019 में यंग प्रोफेशनल्स के लिए ज्यादा नौकरियां उपलब्ध थीं, जबकि इस साल कंपनियां जोर-शोर से मिड और सीनियर लेवल प्रोफेशनल्स की बहाली कर रही हैं।

इन शहरों में ज्यादा नौकरियां

सबसे ज्यादा नौकरियां बेंगलुरु में हैं। देश में कुल एनालिटिक्स जॉब ओपनिंग में बेंगलुरु का करीब 23 फीसदी योगदान है, जो पिछले साल के मुकाबले थोड़ा ज्यादा है। इसके बाद देश में उपलब्ध कुल ओपनिंग में दिल्ली/एनसीआर का 20 फीसदी और मुंबई का करीब 15 फीसदी योगदान है।

बीएफएसआई सेक्टर सबसे बड़ा रिक्रूटर

आईटी सेक्टर को छोड़कर देखा जाए, तो बीएफएसआई सेक्टर में सबसे ज्यादा करीब 35 फीसदी एनालिटिक्स जॉब उपलब्ध हैं। हालांकि इस सेक्टर में नौकरियां घटती जा रही हैं। कुल एनालिटिक्स जॉब मे इस सेक्टर का योगदान 2018 में 41 फीसदी और 2019 में 38.3 फीसदी था। फार्मा सेक्टर में 16.3 फीसदी एनालिटिक्स जॉब उपलब्ध हैं, जो पिछले साल के मुकाबले 3.9 फीसदी ज्यादा है।

इन कंपनियों में सबसे ज्यादा नौकरियां

इन 10 कंपनियों में सबसे ज्यादा नौकरियां हैं- एक्सेंचर, एंफैसिस, कॉग्निजेंट टेक्नोलॉजी सॉल्यूशंस, कैपजेमनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल और कोलाबेरा टेक्नोलॉजीज। इनमें अधिकतर कंपनियां आईटी और केपीओ सेक्टर की हैं।

डाटा साइंस प्रोफेशनल्स की मीडियन सैलरी 9.5 लाख रुपए सालाना से ज्यादा

लिस्टेड जॉब ऑपनिंग के मुताबिक देश में डाटा साइंस प्रोफेशनल्स की मीडियन सैलरी 9.5 लाख रुपए सालाना है। हालांकि वास्तविक सैलरी लिस्टेड सैलरी से ज्यादा होती है। एक दशक से ज्यादा अनुभव वाले पेशेवरों की सैलरी 25 लाख रुपए से लेकर 50 लाख रुपए तक होती है।

सबसे ज्यादा मांग पाइथन प्रोफेशनल्स की

सबसे ज्यादा मांग पाइथन प्रोफेशनल्स की है। 27 फीसदी ओपनिंग में कोर स्किल के रूप में पाइथन की मांग की जा रही है। इसके बाद सबसे ज्यादा मांग जावा/जावास्क्रिप्ट की है। 22 फीसदी ओपनिंग में इस स्किल की मांग की जा रही है।

भारती इंफ्राटेल में इंडस टावर्स के विलय का रास्ता हुआ साफ, वोडाफोन ग्रुप को कर्जदाताओं से मिली मंजूरी



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply