डीएचएफएल के प्रमोटर वधावन बंधुओं को अब चेन्नई जेल भेजा, 218 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला


नई दिल्ली6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

वधावन बंधुओं को इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई भी गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर आए थे।

  • वधावन बंधुओं पर 200 करोड़ रुपए के एनसीडी का री-पेमेंट नहीं करने का आरोप
  • डीएचएफएल की ओर से ठगे गए निवेशकों से शिकायत दर्ज कराने की अपील

दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) के प्रमोटर कपिल राजेश वधावन और धीरज राजेश बधावन को अब चेन्नई जेल भेज दिया गया है। इस बार वधावन बंधुओं को निवेशकों के 218 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी में जेल भेजा गया है।

मद्रास हाईकोर्ट के आदेश पर दर्ज हुआ था मुकदमा

तमिलनाडु पुलिस की चेन्नई आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने मद्रास हाईकोर्ट के आदेश पर वधावन बंधुओं और अन्य के खिलाफ अगस्त 2020 में मुकदमा दर्ज किया था। ईओडब्ल्यू के मुताबिक, 63 मून टेक्नोलॉजीस लिमिटेड के प्रतिनिधि जॉन दीपक ने वधावन बंधुओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। इस कंपनी ने 200 करोड़ रुपए के डीएचएफएल के नॉन-कन्वर्टेबल डिबेंचर (एनसीडी) खरीदे थे। लेकिन कंपनी ने इसका री-पेमेंट नहीं किया।

स्पेशल कोर्ट ने 15 दिनों के लिए जेल भेजा

पुलिस ने बताया कि वधावन बंधुओं को ज्यूडिशियल रिमांड के लिए स्पेशल कोर्ट के सामने पेश किया था। कोर्ट ने दोनों को 15 दिनों के लिए जेल भेज दिया है। वधावन बंधुओं को पुलिस ने मंगलवार को मुंबई से गिरफ्तार किया था और ट्रांजिट वारंट पर चेन्नई लाई थी।

निवेशकों से शिकायत दर्ज कराने की अपील

ईओडब्ल्यू ने डीएचएफएल की ओर से ठगे गए निवेशकों से शिकायत दर्ज कराने की अपील की है। वधावन बंधुओं को इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और सीबीआई भी गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर आए थे।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply