डेनियल पर्ल मर्डर: अमेरिका के लिए झटका, पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सिंध सरकार की याचिका


पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने सोमवार (1 जून) को सिंध सरकार की एक याचिका खारिज कर दी जिसमें उच्च न्यायालय के फैसले को स्थगित करने की मांग की गई थी। यह सिंध सरकार के साथ ही अमेरिका के लिए एक झटके की तरह है। उच्च न्यायालय ने अमेरिकी पत्रकार डेनियल पर्ल के अपहरण और हत्या मामले में अल-कायदा के आतंकवादी अहमद उमर सईद शेख और उसके तीन सहयोगियों को दी गई सजा के फैसले को पलट दिया था।

‘द वॉल स्ट्रीट जर्नल’ के दक्षिण एशिया के ब्यूरो प्रमुख 38 वर्षीय डेनियल पर्ल 2002 में पाकिस्तान में जब देश की शक्तिशाली खुफिया एजेंसी आईएसआई और अल-कायदा के बीच कथित संबंधों की खबर को लेकर कुछ तथ्य जुटा रहे थे तभी उनका अपहरण कर लिया गया और उनका सिर कलम कर दिया गया था। सिंध उच्च न्यायालय के दो न्यायाधीशों की पीठ ने ब्रिटेन में जन्मे 46 वर्षीय अल-कायदा के आतंकवादी के मौत की सजा को दो अप्रैल को पलट दिया था। 2002 में पर्ल के अपहरण और हत्या मामले में उसे सजा सुनाई गई थी। वह पिछले 18 वर्षों से जेल में है।

डेनियल पर्ल हत्याकांड: दोषी के सजा-ए-मौत को कैद में बदलने पर पाकिस्तान से अमेरिका खफा

अदालत ने उसके तीन सहयोगियों — फहाद नसीम, सलमान साकिब और शेख आदिल को भी बरी कर दिया, जो मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे थे। चारों दोषियों द्वारा 18 वर्ष पहले दायर अपील पर पीठ ने यह फैसला सुनाया। सिंध की सरकार ने उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती दी और दो मई को मारे गए पत्रकार के अभिभावकों ने भी दोषियों को बरी करने के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की।

‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ ने खबर दी कि उच्चतम न्यायालय ने सिंध उच्च न्यायालय के फैसले को स्थगित करने की सिंध सरकार की याचिका को सोमवार (1 जून) को खारिज कर दिया और कहा कि याचिका में अप्रासंगिक धाराएं हैं। न्यायमूर्ति मंजूर मलिक ने कहा, ”सबसे पहले यह साबित किया जाना चाहिए कि डेनियल पर्ल का अपहरण हुआ था। साक्ष्य से स्पष्ट किया जाना चाहिए कि जिसका अपहरण हुआ, वह डेनियल पर्ल था। सिंध सरकार का दावा है कि षड्यंत्र रावलपिंडी में रचा गया। रावलपिंडी में जो षड्यंत्र हुआ उसे भी साक्ष्यों से साबित किया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा, ”हमें मामले का पूरा रिकॉर्ड मुहैया कराया जाना चाहिए। मैं सभी रिकॉर्ड को देखना चाहता हूं ताकि मैं सभी बिंदुओं को समझ सकूं।”

उच्चतम न्यायालय ने सिंध सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले वकील फारूक एच. नाइक को आदेश दिया कि अदालत को विस्तृत ब्यौरा सौंपें, ताकि अदालत आगे की सुनवाई कर सके। इसके बाद सुनवाई को अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया। सिंध सरकार ने निचली अदालत के रिकॉर्ड सौंपने के लिए समय मांगा था। न्यायाधीश ने कहा कि अदालत को देखना होगा कि स्वीकारोक्ति और पहचान परेड कानून के मुताबिक की गई अथवा नहीं। उन्होंने कहा, ”तथ्यों को अनदेखा नहीं किया जा सकता है।” मशहूर वकील फैजल सिद्दिकी ने चारों आरोपियों को बरी किए जाने और छोड़े जाने के खिलाफ, मारे गए पत्रकार के माता-पिता– रूथ पर्ल और जूडी पर्ल की तरफ से दो मई को दायर दो याचिकाएं दायर की थीं।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply