दिखने लगा है असर: सनफ्लावर, पाम और सोया ऑयल हुए सस्ते, लेकिन सरसों तेल में बढ़ रही महंगाई; तेल-तिलहन के स्टॉक पर निगरानी के लिए पोर्टल बना रही सरकार


  • Hindi News
  • Business
  • Palm, Soya And Sunflower Oil Prices Are Down, Govt Reduced Import Duty Of Oils Twice

नई दिल्ली18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सांकेतिक तस्वीर।

पाम, सोया और सूरजमुखी के तेल पर लगने वाले आयात शुल्क में दूसरी बार कमी किए जाने का असर अब दिखने लगा है। रसोई में इस्तेमाल होने वाले इन तेलों के थोक और खुदरा भाव में पिछले एक हफ्ते के दौरान थोड़े-बहुत की कमी हुई है। लेकिन सरसों तेल का खुदरा भाव घटने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है। शुक्रवार को सरसों तेल की कीमत 180 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गई थी जो महीने भर पहले 173 रुपए प्रति किलो थी।

सूरजमुखी के तेल की खुदरा कीमत 171 रुपए से घटकर 167 रुपए पर आई

पिछले एक महीने में रसोई तेलों की औसत खुदरा कीमत मामूली तौर पर घटी है। यह बात उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय में कीमतों पर नजर रखनेवाले विभाग ने कही है। उसके मुताबिक, सूरजमुखी के तेल की खुदरा कीमत पिछले हफ्ते 174 रुपए रही जो महीने भर पहले 171 रुपए प्रति लीटर थी। लेकिन शुक्रवार को इसकी औसत खुदरा कीमत 167 रुपए प्रति लीटर रही।

बाजार में कम आवक से लगातार बढ़ रही सरसों तेल की औसत खुदरा कीमत

इसी तरह, पिछले हफ्ते 134 रुपए रही पाम ऑयल की औसत खुदरा कीमत शुक्रवार को घटकर 132 रुपए प्रति लीटर पर आ गई। लेकिन सोयाबीन ऑयल की औसत खुदरा कीमत में पिछले एक हफ्ते में कोई बदलाव नहीं आया है। शुक्रवार को इस तेल की औसत कीमत 156 रुपए प्रति लीटर रही। इन सबके बीच सरसों तेल की औसत खुदरा कीमत लगातार बढ़ रही है।

सॉल्वैंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ने किया सरसों का आयात शुल्क घटाने का अनुरोध

सॉल्वैंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (SEAI) ने सोया और सूरजमुखी के तेल की तरह सरसों के भी आयात शुल्क में कमी करने का अनुरोध किया है। उसका कहना है कि सरसों तेल के दाम में तेज उछाल को काबू करने के लिए सरकार को सरसों के आयात शुल्क में बाकी तेलों के मुकाबले ज्यादा कमी करनी चाहिए। SEAI ने सरकार से यह अपील बाजार में सरसों की आवक कम होने के चलते की थी।

तेलों और तिलहन के स्टॉक पर नजर रखने के लिए बन रहा वेब पोर्टल

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के मुताबिक, ‘सभी राज्यों और खाद्य तेल से जुड़े उद्योग संगठनों से बातचीत करने पर कीमत में ज्यादा पारदर्शिता की जरूरत महसूस की गई। इसको देखते हुए खाद्य मंत्रालय देशभर में खाद्य तेलों और तिलहन के स्टॉक पर साप्ताहिक आधार पर नजर रखने के लिए एक वेब पोर्टल बनाने में जुट गया है।

तेल मिल, स्टॉकिस्ट और होलसेलर के डेटा पोर्टल पर डाले जाएंगे

मंत्रालय ने कहा कि तेल मिल, ऑयल प्रोसेसर, स्टॉकिस्ट और होलसेलर वगैरह से मिले डेटा पोर्टल पर डाले जाएंगे। राज्यों से कहा गया है कि वे तेलों के खुदरा दाम प्रमुखता से प्रदर्शित करें, ताकि देश भर में कीमतों को लेकर पारदर्शिता बरती जा सके।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply