दिल्ली में फिर विकराल रूप ले रहा कोरोना, अब तक 1.82 लाख लोग संक्रमित, आज 2700 से अधिक नए मरीज मिले


वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (COVID-19) दिल्ली में एक बार फिर से विकराल रूप धारण करने लगी है। गुरुवार को दिल्ली में कोरोना के 2700 से अधिक नए मरीज मिलने के बाद यहां संक्रमितों की कुल संख्या 1 लाख 82 हजार के पार पहुंच गई है। वहीं आज भी संक्रमण से 19 और लोगों की मौत होने से मृतकों संख्या भी बढ़कर 4,500 हो गई।

दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग की ओर से गुरुवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, बीते 24 घंटे में जहां कोरोना के 2737 नए मरीज मिले हैं, वहीं, 19 मरीजों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है। स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि दिल्ली में संक्रमितों की कुल संख्या 1,82,306 हो गई है। आज दिल्ली में 1528 मरीज पूरी तरह ठीक होकर अपने घर चले गए।

दिल्ली में कोरोना के केसों में वृद्धि पर सत्येंद्र जैन ने कही ये बात

राजधानी में आज कोरोना वायरस संक्रमण के एक्टिव मामले भी बढ़कर 17,692 हो गए हैं। वहीं, अब तक कुल 1,60,114  मरीज इस महामारी को मात देकर पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। इसके साथ ही अब तक मरने वालों की संख्या 4500 हो गई है।

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, आज दिल्ली में 8322 आरटीपीआर/ सीबीएनएएटी / ट्रूनैट टेस्ट और 24,512 रैपिड एंटीजन टेस्ट किए गए। दिल्ली में अब तक कुल 1,66,9352 जांचें हुई हैं और प्रति 10 लाख लोगों पर 87,861 टेस्ट किए गए हैं । इसके साथ ही राजधानी में कंटेनमेंट जोन की संख्या एक बार फिर से बढ़कर 922 हो गई है।

दिल्ली में होम आइसोलेशन में मरीजों की संख्या 43 प्रतिशत बढ़ी 

दिल्ली में कोविड-19 का इलाज करा रहे रोगियों की संख्या में एक महीने में 50 प्रतिशत का इजाफा हुआ है, वहीं होम आइसोलेशन में रह रहे रोगियों की संख्या 43 प्रतिशत बढ़ी है। दिल्ली सरकार के आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है।

दिल्ली में एक अगस्त को अस्पतालों में इलाज करा रहे या आइसोलेशन में रह रहे कोविड-19 के रोगियों की संख्या 10,596 थी। इनमें से 5,660 होम आइसोलेशन में थे। एक महीने पहले अस्पतालों में 13,578 बिस्तरों में से केवल 2,979 पर मरीज थे।

सरकारी आंकड़े दिखाते हैं कि एक सितंबर को होम आइसोलेशन में रहे कोविड-19 रोगियों की संख्या बढ़कर 8,119 हो गई तथा इलाज करा रहे कुल रोगियों की संख्या 15,870 पहुंच गई। 





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply