देश के प्रमुख पोर्ट से लगातार छठे महीने गिरा कार्गो ट्रैफिट, पहली छमाही में 14 फीसदी की कमी


  • Hindi News
  • Business
  • Major Ports’ Cargo Traffic Falls For 6th Straight Month In Sep; Logs 14% Drop In H1 FY21

नई दिल्ली25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

12 प्रमुख पोर्ट्स देश का करीब 61 फीसदी कार्गो ट्रैफिक हैंडल करते हैं।

  • चालू वित्त वर्ष में अब तक कार्गो ट्रैफिक 298.55 मिलियन टन रहा
  • अप्रैल-सितंबर के बीच कामराजार पोर्ट पर 31.63% की गिरावट

कोविड-19 महामारी के कारण देश में कार्गो ट्रैफिक पर बुरा असर पड़ा है। देश के प्रमुख 12 पोर्ट्स पर सिंतबर में लगातार छठे महीने कार्गो ट्रैफिक में गिरावट रही है। इंडियन पोर्ट्स एसोसिएशन (आईपीए) के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष के पहले 6 महीनों में कार्गो ट्रैफिक में 14 फीसदी की गिरावट आई है। इस अवधि में कुल 298.55 मिलियन टन कार्गो ट्रैफिक रहा है। एक साल पहले समान अवधि में कार्गो ट्रैफिक 348.23 मिलियन टन रहा था।

मार्च से लगातार हो रही गिरावट

पिछले महीने शिपिंग मिनिस्टर मनसुख मांडविया ने कहा था कि देश के 12 प्रमुख पोर्ट्स पर मार्च से लगातार गिरावट हो रही है। केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि कोविड-19 के कारण कार्गो ट्रैफिक पर प्रतिकूल असर पड़ा है। आईपीए के मुताबिक, सभी प्रमुख पोर्ट्स पर कार्गो ट्रैफिक की ग्रोथ निगेटिव रही है। अप्रैल-सितंबर के बीच कामराजार पोर्ट पर कार्गो ट्रैफिक में 31.63 फीसदी की गिरावट रही है। वहीं, चेन्नई, कोचिन, जेएनपीटी पर कार्गो वॉल्यूम में 20 फीसदी की गिरावट रही है। कोलकाता और मुंबई पोर्ट पर 15 फीसदी से ज्यादा की गिरावट रही है।

देश का 61% कार्गो ट्रैफिक हैंडल करते हैं ये 12 बंदरगाह

देश के 12 प्रमुख बंदरगाहों में दीनदयाल (पुराना नाम कांदला), मुंबई, जेएनपीटी, मोर्मुगाव, न्यू मंगलुरु, कोच्चि, चेन्नई, कामराजार (पुराना नाम एन्नोर), वीओ चिदंबरनार, विशाखापट्‌टनम, पारादीप और कोलकाता (हल्दिया सहित) शामिल हैं। इनका नियंत्रण केंद्र सरकार करती है। ये 12 प्रमुख बंदरगाह देश का करीब 61 फीसदी कार्गो ट्रैफिक हैंडल करते हैं।

महामारी के कारण कंटेनर्स, कोयला, पेट्र्रोलियम, ऑयल और लुब्रिकेंट की हैंडलिंग में भारी गिरावट

कारोबारी साल 2019-20 में इन बंदरगाहों ने कुल 70.5 करोड़ टन कार्गो ट्रैफिक हैंडल किया था। कार्गो ट्रैफिक में कंटेनर कार्गो, कोयला, फर्टिलाइजर्स, पेट्रोलियम उत्पाद व अन्य सेगमेंट शामिल हैं। कोरोनावायरस महामारी फैलने के बाद कंटेनर्स, कोयला और पोल (पेट्रोलियम, ऑयल और लुब्रिकेंट) की हैंडलिंग में भारी गिरावट आई है।

समूचे कारोबारी साल में कंटेनर सेगमेंट में 12-15% गिरावट की आशंका

रेटिंग एजेंसी इक्रा ने पहले कहा था कि समूचा कार्गो सेगमेंट प्रभावित होगा, लेकिन कंटेनर सेगमेंट पर ज्यादा बुरा असर होगा। पूरे कारोबारी साल 2020-21 में समूचे कार्गो सेगमेंट में 5-8 फीसदी गिरावट आ सकती है। जबकि इस कारोबारी साल में कंटेनर सेगमेंट में 12-15 फीसदी की गिरावट आ सकती है।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply