बचपन में जीता हुआ मैच हारने पर कोच को आया था गुस्सा, एमएस धोनी को दी थी ये सजा


फुटबॉल टीम में गोलकीपिंग करने वाले शर्मीले से लड़के को अचानक क्रिकेट टीम में विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी देने वाले महेंद्र सिंह धोनी के बचपन के कोच केशव बनर्जी ने उनके संन्यास के फैसले पर कहा है कि उसका हर फैसला यूं ही सरप्राइज होता है। वह खुद जानता है कि उसे कब संन्यास लेना है। किसी को उसे बताने की जरूरत नहीं है और यही बात उसे अलग बनाती है। उन्होंने अतीत के पन्ने खोलते हुए उस दिन के बारे में बताया कि जब धोनी को मैच हारने पर सजा मिली थी।

बचपन के कोच केशव बनर्जी बोले, उन्होंने बस राह दिखाई रास्ता धोनी ने खुद तय किया

उन्होंने कहा कि यही सोचकर मैं उसे फुटबॉल से क्रिकेट में लाया। अपने उस फैसले पर मुझे हमेशा नाज रहेगा। उन्होंने कहा कि कैप्टन कूल धोनी बचपन से ही बहुत शांत था और उसमें गजब की सहनशीलता थी। उन्होंने कहा कि सफलता के शिखर तक पहुंचने के बाद भी उसकी यह खूबी बनी रही जो काबिले तारीफ है। स्कूली दिनों का एक किस्सा याद करते हुए उन्होंने कहा कि एक बार हमारी टीम जीता हुआ मैच हार गई तो मुझे बहुत गुस्सा आया और मैने कहा कि सीनियर खिलाड़ी बस में नहीं जाएंगे और पैदल आएंगे। वह कुछ और सीनियर के साथ दो तीन किलोमीटर पैदल चलकर आया और कुछ नहीं बोला। चुपचाप किट बैग लेकर घर चला गया।

धोनी के रिटायरमेंट पर BCCI ने ऐसे याद किया उनका सुनहरा सफर

यूएई में इंडियन प्रीमियर लीग खेलने के लिए चेन्नई रवाना होने से पहले धोनी ने बनर्जी से बात की थी लेकिन उसमें क्रिकेट का जिक्र नहीं था। उन्होंने कहा कि हमारी बात हुई लेकिन वह निजी बात थी। क्रिकेट की कोई बात नहीं हुई। जब वह रांची में रहता है तो क्रिकेट की बात कम करता है। बनर्जी ने कहा कि भारतीय क्रिकेट बोर्ड को चाहिये कि उसकी असाधारण प्रतिभा का इस्तेमाल करे। उन्होंने कहा कि धोनी जैसी क्रिकेट की समझ बहुत कम क्रिकेटरों में होती है। मैं चाहूंगा कि बीसीसीआई उसकी असाधारण प्रतिभा का इस्तेमाल करे। विकेटकीपिंग, बल्लेबाजी, कप्तानी, निर्णय क्षमता सभी में माहिर ऐसा पूरा पैकेज ढूंढने से नहीं मिलेगा।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply