मध्य प्रदेश: रेप पीड़िता ने की खुदकुशी, परिवार का आरोप- पुलिस ने नहीं की कार्रवाई 


उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित तौर पर गैंगरेप और क्रूरता से हत्या की घटना पर मचे हंगामे के बीच मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में एक दलित महिला ने गैंगरेप के बाद खुदकुशी कर ली है। 32 वर्षीय पीड़िता से चार दिन पहले तीन लोगों ने गैंगरेप किया था। महिला के परिवार का आरोप है कि पुलिस ने तीन दिन तक कोई कार्रवाई नहीं की। शुक्रवार को पुलिस ने रेप के एक आरोपी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया। 

गादरवारा से एसडीओपी एसआर यादव ने बताया कि गोतितोरिया पुलिस आउटपोस्ट के असिस्टेंट सब इंस्पेकर मिश्रीलाल कोडापा को मामले में ढिलाई बरतने की वजह से सस्पेंड कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ”हमने अरविंद और पारसू चौधरी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है, जो पीड़िता के समुदाय से ही हैं।” उन्होंने आगे बताया कि अरविंद चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है और दो अन्य की तलाशी चल रही है। 

कथित तौर पर सोमवार को तीनों ने उस समय पीड़िता के साथ रेप किया जब वह जानवरों के लिए चारा काटने खेत गई थी। हालांकि, एडीओपी ने कहा कि महिला की दो भतीजियों, जिन्होंने घटना को देखा, कहा कि आरोपियों ने उसे पकड़ा और छेड़खानी की, लेकिन इस बात की पुष्टि नहीं की कि पीड़िता के साथ रेप हुआ। जब उन्होंने शोर मचाया तो आरोपी वहां से भाग गए। 

एसडीपीओ ने कहा कि महिला और उसके पति ने उसी दिन पुलिस थाने में मौखिक रूप से शिकायत की लेकिन उस दिन शिकायत स्पष्ट नहीं थी। अधिकारी ने कहा कि शुक्रवार को जब महिला पानी भरने गई थी तब एक अन्य महिला लीला बाई ने उस पर छींटाकशी की, जिसके बाद पीड़िता ने घर जाकर फांसी लगा ली। 

मृतक के पति ने आरोप लगाया कि वह तीन दिन से शिकायत कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने केस दर्ज नहीं किया। यादव ने कहा, ”हमने लीला बाई को गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा अरविंद के पिता मोती लाल को भी आईपीसी की धारा 306 (खुदकुशी के लिए उकसाना) के तहत गिरफ्तार कर लिया है, क्योंकि उसने महिला को कुछ अपमानजनक कहा था। हमने गैंगरेप का केस दर्ज किया है और आगे जांच कर रहे हैं।”



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply