महागठबंधन ने सभी 243 सीटों की सूची जारी की, कांग्रेस का अगड़ों व राजद का पिछड़ों पर दांव


बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में उतरे दोनों बड़े गठबंधनों ने टिकट बंटवारे में सामाजिक समीकरण साधने के लिए एक ही फॉर्मूला अपनाया है। भाजपा और कांग्रेस ने सवर्णों पर भरोसा किया है तो राजद और जदयू ने  पिछड़ों और अति पिछड़ों पर अपना दांव लगाया है। कांग्रेस ने तो अपने खाते की लगभग आधी सीटें सवर्णों के हवाले कर दी हैं।

महागठबंधन ने सभी 243 सीटों की सूची गुरुवार को जारी कर दी। इसमें राजद और कांग्रेस के साथ ही तीनों वाम दलों के उम्मीदवारों के भी नाम हैं। राजद और कांग्रेस ने लगभग दो दर्जन महिलाओं को मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने नये लड़ाकों पर भी बाजी लगाई है लेकिन राजद ने मंजे खिलाड़ियों को ही अपना उम्मीदवार बनाया है। कांगेस में लगभग एक दर्जन से अधिक उम्मीदवार ऐसे हैं जो पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। दलित और अल्पसंख्यक उम्मीदवारों में दोनों दलों की भागीदारी लगभग बराबर है।  

राजद का सबसे अधिक आधार वोट पर ध्यान 
महागठबंधन में वाम दलों की सीटों को छोड़ दें तो राजद ने सबसे अधिक अपने आधार वोट पर ध्यान दिया है। ‘माई’ समीकरण पर पार्टी का विशेष जोर रहा है। सर्वाधिक 58 यादव प्रत्याशियों को टिकट दिया गया है। अल्पसंख्यकों को 15 टिकट दिये गये हैं। राजद की सूची में सवर्णों के हिस्से महज दर्जनभर सीटें आई हैं। वहीं, अति पिछड़ों को भी राजद ने खासी तरजीह दी है। इस समाज के हिस्से में राजद की 24 सीटें गई हैं। यादव के अलावा पिछड़ों में शामिल कुशवाहा समाज को आठ सीटें दी गई हैं। सात वैश्यों को भी लालटेन थमाई गई है। दलितों में चार पासवान, दो मुसहर, दो आदिवासी, सात रविदास को टिकट देकर पार्टी ने दलित-महादलित को साधने की कोशिश की है।

कांग्रेस ने 70 में सबसे अधिक 32 सीटों पर सवर्ण उतारे
कांग्रेस ने अपने हिस्से की 70 सीटों में सबसे अधिक 32 सीटों से सवर्ण उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। दस अल्संख्यकों पर भी पार्टी ने बाजी लगाई तो दलित उम्मीदवारों की संख्या भी दस है। इस पार्टी ने युवाओं पर काफी ध्यान दिया है। इसके सिटिंग उम्मीदवारों  को छोड़ दें तो 20 प्रत्याशियों की उम्र लगभग 40 से 45 वर्ष के बीच है। दोनों दलों ने मिलकर 24 महिलाओं को मैदान में उतारा है। इसके अलावा कांग्रेस में अति पिछड़ा उम्मीदवारों की संख्या भी आठ है। 

महागठबंधन में किस वर्ग को किसने कितना दिया प्रतिनिधित्व
राजद 

पिछ़डा- 73 (51 प्रतिशत)
अति पिछ़डा- 24 (51 प्रतिशत)
अल्पसंख्यक- 15 (11 प्रतिशत)
सवर्ण- 13 (09 प्रतिशत)
दलित- 14 (09 प्रतिशत)
एसटी- 02 (1.3 प्रतिशत)

कांग्रेस
सवर्ण- 34 (49 प्रतिशत)
पिछड़ा- 10 (14 प्रतिशत)
अति पिछड़ा- 3 (04 प्रतिशत)
दलित- 13 (19 प्रतिशत)
अल्पसंख्यक- 10 (14 प्रतिशत)

एनडीए में किस वर्ग को किसने दिया कितना प्रतिनिधित्व
सूची जातिवार
भाजपा

जाति                         संख्या             प्रतिशत
दलित :                      16                 14.54  
सवर्ण :                       50                45.45 
पिछड़ा-अतिपिछड़ा :  44               40  
महिला :                  13                11.81 
मुस्लिम :         00        00

जदयू          
जाति                         संख्या             प्रतिशत 
दलित :                      18                 15.65 
सवर्ण :                       19                 16.52 
पिछड़ा :                  45                39 
अतिपिछड़ा :               19                 16.52 
मुस्लिम :                     11                 10     
 
 



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply