महामारी के चलते श्रीलंका में फिर चुनाव टले, राष्ट्रपति ट्रम्प 19 जून से चुनावी रैली शुरू करेंगे; दुनिया में अब तक 74.51 लाख संक्रमित


  • दुनिया में अब तक 4 लाख 18 हजार 872 लोगों की मौत, जबकि 37.33 लाख से ज्यादा ठीक हुए
  • अमेरिका में 20.66 लाख से ज्यादा संक्रमित, 1 लाख 15 हजार 130 लोगों की मौत हुई

दैनिक भास्कर

Jun 11, 2020, 07:44 AM IST

वॉशिंगटन. दुनिया में कोरोनावायरस से अब तक 4 लाख 18 हजार 872 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमितों का आंकड़ा 74 लाख 51 हजार 523 हो गया है। 37 लाख 33 हजार 376 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। उधर, संक्रमण के चलते श्रीलंका में एक बार फिर संसदीय चुनाव टाल दिए गए हैं। यह 20 जून को होने वाला था, जो अब पांच अगस्त को होगा। वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प 19 जून से ओकाहोमा से चुनावी रैली की शुरुआत करेंगे। 

अमेरिका में महामारी के कारण तीन महीने से रैलियां स्थगित कर दी गई थीं। राष्ट्रपति ने कहा कि फ्लोरिडा, एरिजोना, उत्तरी कैरोलीना और ओकाहोमा से 19 जून को रैली की शुरुआत करेंगे। अमेरिका दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश है। यहां संक्रमण के 20.66 लाख से ज्यादा मामले हैं, जबकि 1.15 लाख मौतें हो चुकी हैं।

कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश

देश

कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए
अमेरिका 20,66,401 1,15,130 8,08,494
ब्राजील 7,75,184 39,797 3,80,300
रूस  4,93,657 6,358  2,52,783
ब्रिटेन 2,90,143 41,128 उपलब्ध नहीं
स्पेन 2,89,360 27,136 उपलब्ध नहीं
भारत 2,87,155 8,107 1,40,979
इटली 2,35,763 34,114 1,69,939
पेरू 2,03,736 5,738  92,929
जर्मनी 1,86,866 8,844  1,70,700
ईरान 1,77,938 8,506 1,40,590

ये आंकड़े https://www.worldometers.info/coronavirus/ से लिए गए हैं।

इटली: 4564 बच्चे संक्रमित
इटली में नागरिक सुरक्षा विभाग की वैज्ञानिक समिति के समन्वयक एगोस्टिनो मियोजो ने कहा कि देश में महामारी की शुरुआत से अब तक 4564 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, चार की मौत हो चुकी है। सक्रमित बच्चों में ज्यादातर 7 से 17 साल के हैं। बीमारी से मारे गए सभी बच्चे सात साल से कम उम्र के थे। सभी संक्रमित बच्चों को इलाज घर पर ही किया गया, केवल 100 बच्चों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया था। यदि स्कूलों को बंद नहीं किया गया होता तो संक्रमित बच्चों की संख्या ज्यादा हो सकती थी।

महामारी पर मौसम का प्रभाव नहीं: डब्ल्यूएचओ
डब्ल्यूएचओ के इमरजेंसी प्रोग्राम के प्रमुख माइक रेयान ने बुधवार को कहा कि इसके बेहद कम सबूत हैं कि महामारी पर मौसम बदलने का प्रभाव पड़ेगा। हम मौसम के बदलने या तापमान बढ़ने के भरोसे नहीं बैठे रह सकते। हमारे पास इसके कई सबूत ही नहीं हैं कि मौसम में बदलाव से संक्रमण और तेजी से फैलेगा या फिर रूक जाएगा। शुरुआत में कुछ लोगों का मानना था कि गर्मियों के मौसम में महामारी का प्रकोप कम हो जाएगा।

फ्रांस: 8 लाख लोगों की नौकरी खतरे में
फ्रांस यूरोप के सबसे प्रभावित देशों में से एक है। वित्त मंत्री ने बुधवार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगले कुछ महीनों में देश में आठ लाख लोगों की नौकरियां जा सकती हैं। यहां संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं, लेकिन मौतों में कमी आई है। देश में अब तक 1.55 लाख संक्रमित मिले हैं, जबकि 29 हजार 319 जानें जा चुकी हैं।

यह तस्वीर फ्रांस के एक फैक्ट्री की है, जहां मास्क पहने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों एक कर्मचारी से बात कर रहे हैं। देश में अब मामले कम हो रहे हैं।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply