विदेशी खिलाड़ियों को वापस भेजने की तैयारी: IPL में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के प्लेयर्स को मालदीव के रास्ते भेजा जा सकता है; चार्टर्ड प्लेन की व्यवस्था की जाएगी


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

IPL 2021 के बायो-बबल में कोरोना की वजह से टूर्नामेंट टालने के बाद भी BCCI की चुनौतियां अभी खत्म नहीं हुई हैं। बोर्ड के सामने अब सबसे बड़ी चुनौती है- विदेशी खिलाड़ियों को सही-सलामत उनके वतन पहुंचाना। इसके लिए बोर्ड ने तैयारी भी शुरू कर दी है। सूत्रों की मानें तो इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के खिलाड़ियों को मालदीव के रास्ते उन्हें उनके घर पहुंचाया जा सकता है।

IPL से जुड़े के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लीग में 40 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी और पूर्व खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। जिनमें 14 क्रिकेटरों के अलावा सपोर्ट स्टाफ, कोच और कमेंटेटर शामिल हैं। बोर्ड ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के सभी खिलाड़ियों को दिल्ली या मुंबई में इक्कट्‌ठा करने की योजना बना रही है।

उसके बाद उन्हें चार्टर फ्लाइट से मालदीव भेजा जाएगा। वहां पर सभी 14 दिन क्वारैंटाइन रहेंगे। उसके बाद अपने-अपने देश लौट सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, मालदीव जाने वाले दल में पैट कमिंस, स्टीव स्मिथ, ग्लेन मैक्सवेल, रिकी पोंटिंग, साइमन कैटिज शामिल हैं।

विदेशी खिलाड़ियों को वापस भेजने की तैयारी: IPL में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के प्लेयर्स को मालदीव के रास्ते भेजा जा सकता है; चार्टर्ड प्लेन की व्यवस्था की जाएगी

ज्यादातर खिलाड़ी दिल्ली और अहमदाबाद में
दिल्ली में सनराइजर्स हैदराबाद, मुंबई इंडियंस, चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच खेले जा रहे थे और अहमदाबाद में कोलकाता नाइट राइडर्स, पंजाब किंग्स, दिल्ली कैपिटल्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के मैच खेले जा रहे थे। ऐसे में सभी विदेशी खिलाड़ी दिल्ली और अहमदाबाद में ही हैं। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में पहले से ही चार टीमें मौजूद हैं। ऐसे में ज्यादा उम्मीद है कि अहमदाबाद से विदेशी खिलाड़ियों को दिल्ली में लाया जाए और यहां से चार्टर प्लेन से मलदीव भेजा जाएगा।

भारतीय खिलाड़ियों को बस से भेजा जा सकता है
भारतीय खिलाड़ियों को अहमदाबाद और दिल्ली से ही उनके शहर भेजने का इंतजाम BCCI और फ्रेंचाइजी की ओर किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली में मौजूद हरियाणा, पंजाब और दिल्ली-एनसीआर के खिलाड़ियों को सुरक्षित पहुंचाने के लिए टीम बसों का इस्तेमाल किए जाने की योजना है। इसके अलावा यह भी योजना है कि एक राज्य के खिलाड़ियों को एकत्रित कर उन्हें सुरक्षित घर पहुंचाने की व्यवस्था की जाए।

विदेशी खिलाड़ियों को वापस भेजने की तैयारी: IPL में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों के प्लेयर्स को मालदीव के रास्ते भेजा जा सकता है; चार्टर्ड प्लेन की व्यवस्था की जाएगी

100 से ज्यादा विदेशी खिलाड़ी और स्टाफ भारत में
चेन्नई सुपर किंग्स, दिल्ली कैपिटल्स, कोलकाता नाइट राइडर्स, मुंबई इंडियंस, पंजाब किंग्स, सनराइजर्स हैदराबाद में सबसे ज्यादा 8-8 विदेशी खिलाड़ी हैं। वहीं, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु में 7 और राजस्थान रॉयल्स में 6 विदेशी खिलाड़ी हैं। इसमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका के 50 से ज्यादा खिलाड़ी हैं। इसके साथ ही बांग्लादेश और वेस्टइंडीज के खिलाड़ी भी इस लीग से जुड़े हुए हैं। इतना ही नहीं इन सभी देशों के 40 से ज्यादा स्टाफ और कमेंटेटर भी भारत में हैं।

ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश ने भारत से फ्लाइट्स पर रोक लगाई
कई देशों ने भारत से आने वाले लोगों के लिए एंट्री पर बैन लगा दिया है। इसमें ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश मुख्य देश हैं। वहीं, भारत से इंग्लैंड जाने वाले लोगों को 10 दिन के लिए सख्त क्वारैंटाइन नियमों के पालन करने होंगे। लोगों को UK सरकार द्वारा एप्रूव्ड किए गए होटल में क्वारैंटाइन किया जाएगा। साथ ही उन्हें दूसरे और 8वें दिन कोरोना टेस्ट भी करवाना होगा।

अब UAE होकर भी अपने देश नहीं जा सकते खिलाड़ी
हालांकि, UAE ने कुछ दिन पहले तक अपने द्वार खोल रखे थे। पर उन्होंने भी भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद 14 मई तक भारत से आनी वाली फ्लाइट्स पर रोक लगा दी। IPL बीच में छोड़कर जाने वाले ऑस्ट्रेलिया के एंड्र्यू टाई और इंग्लैंड के लियाम लिविंगस्टोन इसी देश होकर अपने-अपने देश लौटे थे।

बांग्लादेश ने भी 1 मई के बाद से भारत और साउथ अफ्रीका से हवाई सेवा पर रोक लगा रखी है। पर उनका लैंड बॉर्डर खुला है। इस मार्ग से आने वाले लोगों को 14 दिन के सख्त क्वारैंटाइन में भेजा जाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply