169 दिन बाद फिर से चलने के लिए तैयार है दिल्ली मेट्रो, जानिए क्या है तैयारी और सफर के नियम


169 दिन बाद दिल्ली मेट्रो एक बार फिर से चलने के लिए तैयार है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) पूरी सावधानी और कोविड प्रोटोकॉल के साथ सोमवार को यात्रियों का स्वागत करेगा। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मार्च में लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन के समय से ही मेट्रो का परिचालन बंद है। अनलॉक-4 में केंद्र सरकार की तरफ से अनुमति मिलने के बाद इसे फिर से शुरू किया जा रहा है। हालांकि इस बार आपकी मेट्रो यात्रा पहले के मुकाबले काफी अलग होगी।

इस बार आपको टिकट काउंटर बंद नजर आएंगे। मेट्रो में सिर्फ स्मार्टकार्ड के माध्यम से ही यात्रा करने की अनुमति होगी। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए पहले की तरह कोच में आपको यात्रियों की भीड़ भी नजर नहीं आएगी। एक-एक सीट छोड़कर बैठने की व्यवस्था की गई है। साथ ही साथ सिर्फ 38 प्रतिशत ही एंट्री और एग्जिट गेट खोले गए हैं। मास्क लगाना अनिवार्य होगा और बेवजह किसी चीज को छुने की मनाही होगी। कंटेनमेंट जोन में पड़ने वाले स्टेशन पर मेट्रो खड़ी नहीं होगी।

सोमवार से सबसे पहले मेट्रो येलो लाइन (समयपुर बादली-हुड्डा सिटी सेंटर) पर चलनी शुरू होगी और इसके पांच दिन के भीतर यानी 12 सितंबर तक मेट्रो की सभी लाइनों पर परिचालन होने लगेगा। रविवार को इसी लाइन पर पड़ने वाले दिल्ली के सबसे व्यस्ततम इंटरचेंज स्टेशन में से एक राजीव चौक पर सेनिटाइजेशन का काम हुआ। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भी यहां का दौरा किया और तैयारियों का जायजा लिया।

उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि दिल्ली के लोग पांच महीने के बाद फिर से मेट्रो में यात्रा करने जा रहे हैं। मैं लोगों से अनुरोध करता हूं कि वे सभी प्रोटोकॉल का पालन करें। प्लेटफॉर्म पर और ट्रेन के अंदर खड़े रहते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों से समझौता न करें। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर कोई आवश्यकता नहीं है तो यात्रा से बचें। दिल्ली में कोविड-19 की स्थिति नियंत्रण में है और हमारी रिकवरी रेट अच्छी है।

एहतियाती उपाय के तौर पर मानवीय संपर्क से बचने के लिए यात्रियों और कर्मचारियों खातिर सेनिटाइजर डिस्पेंसिंग मशीनों के साथ प्लेटफॉर्म पर ऑटोमैटिक थर्मल स्कैनर लगाए गए हैं। सीटों पर बैठने के लिए एक मीटर के अंतराल को बनाए रखने की व्यवस्था की गई है। तलाशी, टिकट, एएफसी गेट्स, लिफ्ट, एस्केलेटर जैसी सभी जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए मार्किंग की गई है।

डीएमआरसी के दिशानिर्देशों के अनुसार, ट्रेनों को टर्मिनल स्टेशनों पर साफ किया जाएगा। रात में डिपो में जाने के बाद मेट्रो कोच की रोज सफाई होगी। इसके अलावा ट्रेनों में ताजी हवा आए, इसके लिए टर्मिनल स्टेशनों पर ट्रेन के दरवाजे खुले रखे जाएंगे।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) प्रमुख मंगू सिंह ने बताया कि सबसे पहले समयपुर बादली से हुड्डा सिटी सेंटर के बीच चलने वाली येलो लाइन मेट्रो 7 सितंबर से शुरू हो रही है। इसके बाद द्वारका सेक्टर-21 से नोएडा और वैशाली के लिए चलने वाली ब्लू लाइन मेट्रो व मजलिस पार्क से शिव विहार के बीच चलने वाली पिंक लाइन मेट्रो 9 सितंबर से शुरू होगी।

रिठाला से शहीद स्थल वाली रेड लाइन मेट्रो, कीर्ति नगर/इंद्रलोक से ब्रिगेडियर होशियार सिंह स्टेशन वाली ग्रीन लाइन मेट्रो और कश्मीरी गेट से राजा नाहर सिंह स्टेशन के बीच चलने वाली वॉयलेट लाइन मेट्रो 10 सितंबर से शुरू होगी। 11 सितंबर को मेजेंटा लाइन और ग्रे लाइन पर मेट्रो ट्रेनें दौड़ने लगेंगी। एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर मेट्रो सेवाएं 12 सितंबर से शुरू होंगी।





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply