1962 में चीन ने भारत के साथ किया था विश्वासघात; 1774 में कलकत्ता भारत की राजधानी बना


  • Hindi News
  • National
  • Today History For October 20th What Happened Today | China Attacked India In 1962 War | Calcutta Became Capital Of British India | Virender Sehwag Birthday

26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आज का दिन भारतीय कूटनीतिक विफलता की कहानी सुनाता है। आज से तकरीबन 58 साल पहले चीन ने 20 अक्टूबर को ही भारत पर सुनियोजित हमला किया था। चीन की सेना ने न केवल सीमा पार की, बल्कि दोस्ती के नाम पर विश्वासघात भी किया।

भारत 1947 में आजाद हुआ और 1949 में चीन रिपब्लिक बना। शुरुआत में दोस्ताना रिश्ते थे। दावे ऐसे भी हैं कि भारत ने चीन की खातिर संयुक्त राष्ट्र के सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता ठुकरा दी थी। नेहरू ने हिंदी-चीनी भाई-भाई का नारा देकर दोस्ती बढ़ाई थी। 1959 में दलाई लामा को भारत ने शरण दी तो दोनों देशों में तनाव बढ़ने लगा था।

चीन के एक शीर्ष स्ट्रैटेजिस्ट वांग जिसी ने 2012 में दावा किया था कि चीन के बड़े नेता माओत्से तुंग ने ग्रेट लीप फॉरवर्ड आंदोलन की असफलता के बाद सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी पर फिर से नियंत्रण कायम करने के लिए भारत के साथ युद्ध छेड़ा था।

भारत युद्ध के लिए तैयार ही नहीं था। नतीजा ये हुआ कि चीन के 80 हजार जवानों का मुकाबला करने भारत ने 10-20 हजार सैनिक उतारे थे। युद्ध एक महीना चला और 21 नवंबर 1962 को चीन ने जब सीजफायर की घोषणा की, तब तक भारत को काफी नुकसान हो चुका था। एक महीने चले युद्ध के बीच नेहरू ने देशवासियों को सिर्फ लड़ाई के पहले दिन यानी 20 अक्तूबर को ही संबोधित किया।

पूरे एक महीने तक उनमें और भारतवासियों के बीच संवादहीनता बनी रही। दूसरी बार वह 20 नवंबर को बोले और वो भी बेहद निराशाजनक खबरों के साथ। नेहरू ने देशवासियों को बताया कि चीनी दोहरी नीति पर चल रहे हैं। एक तरफ तो वो शांति की बात कर रहे हैं, लेकिन दूसरी तरफ उनके हमले लगातार जारी हैं।

सिडनी में ओपेरा हाउस खुला

सिडनी का ओपेरा हाउस, जो अपने विशेष आकार की वजह से टूरिस्ट अट्रेक्शन है।

सिडनी का ओपेरा हाउस, जो अपने विशेष आकार की वजह से टूरिस्ट अट्रेक्शन है।

ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में ओपेरा हाउस को 1973 में 20 अक्टूबर को पहली बार जनता के लिए खोला गया था। इसका उद्घाटन क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय ने किया था। इस ओपेरा हाउस का डिजाइन डेनमार्क के आर्किटेक्ट जोर्न उत्जन ने किया था, जिनके डायनामिक, इमेजिनेटिव लेकिन प्रॉब्लमेटिक प्लान ने 1957 में एक इंटरनेशनल कॉम्पिटिशन जीती थी। यूनेस्को ने इस बिल्डिंग को वर्ल्ड हेरिटेज साइट की लिस्ट में शामिल किया है। मार्च 1959 में इसका निर्माण शुरू हुआ और इस पर 10 करोड़ डॉलर खर्च हुए थे।

आज की तारीख को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता हैः

  • 1568: अकबर ने चित्तौड़गढ़ पर आक्रमण किया।
  • 1740: मारिया थेरेसा ऑस्ट्रिया, हंगरी और बोहेमिया के शासक बने।
  • 1774: कलकत्ता (अब कोलकाता) भारत की राजधानी बना।
  • 1880: एम्सटर्डम मुक्त विश्वविद्यालय की स्थापना हुई।
  • 1855: गुजराती साहित्य के कथाकार, कवि, और चरित्र लेखक गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी का जन्म।
  • 1904: चिली और बोलीविया ने शांति और मित्रता की संधि पर हस्ताक्षर किया।
  • 1905: रूस में 11 दिन तक चली ऐतिहासिक हड़ताल की शुरुआत हुई।
  • 1920: पश्चिम बंगाल के भूतपूर्व मुख्यमंत्री सिद्धार्थ शंकर राय का जन्म।
  • 1930: भारत में उच्च न्यायालय की प्रथम महिला न्यायाधीश लीला सेठ का जन्म।
  • 1946: वियतनाम की डेमोक्रेटिक रिपब्लिकन सरकार ने को वियतनाम महिला दिवस के रूप में घोषित किया।
  • 1947: अमेरिका और पाकिस्तान ने पहली बार राजनयिक संबंध स्थापित किए थे।
  • 1970: सैयद बर्रे ने सोमालिया को समाजवादी राज्य घोषित किया।
  • 1978: प्रसिद्ध भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी वीरेन्द्र सहवाग का जन्म।
  • 1982: वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी तथा केरल और मध्य प्रदेश के भूतपूर्व राज्यपाल निरंजन नाथ वांचू का निधन।
  • 1991: उत्तरकाशी में 6.8 तीव्रता के भूकंप से 1000 से ज्यादा लोगों की मौत।
  • 1995: श्रीलंकाई क्रिकेट टीम ने वेस्टइंडीज को हराकर शारजाह कप फाइनल ट्रॉफी अपने नाम की।
  • 2007: अली लारीजानी के त्यागपत्र के बाद ईरान के विदेश उपमंत्री सईद जलाली नए प्रमुख परमाणु वार्ताकार बने।
  • 2011: लीबिया पर 40 साल तक राज करने वाला तानाशाह मोहम्‍मद गद्दाफी गृहयुद्ध में मारा गया।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply