28 दिन पहले अगवा किए गए मजदूरों को छुड़ाया गया, किडनैपर्स ने यकीन दिलाने के लिए कंपनी को इनकी फोटो दिखाई थी


  • Hindi News
  • International
  • Seven Laborers From Three States Abducted 28 Days Ago Were Rescued, Kidnappers Showed Their Photo To The Company To Assure Kidnapping

त्रिपोली16 मिनट पहले

लीबिया में किडनैपर्स से छुड़ाए गए भारतीयों के साथ ट्यूनिशिया मिशन के अफसर। सभी भारतीयों के परिवार ने केंद्र से बीत महीने मदद की गुहार लगाई थी।

  • किडनैपर्स 14 सितंबर को सात भारतीयों को लीबिया के अस्वेरिफ इलाके से अगवा किया था, छोड़ने के बदले फिरौती की मांग की थी
  • लीबिया में भारत का दूतावास नहीं है, ऐसे में इन भारतीयों को छुड़ाने की जिम्मेदारी ट्यूनीशिया स्थित भारतीय मिशन को दी गई थी

लीबिया में 28 दिन पहले अगवा किए गए तीन राज्यों के सात मजदूरों को छुड़ा लिया गया है। ट्यूनीशिया में भारत के राजदूत पुनीत रॉय कुंदल ने रविवार को इसकी जानकारी दी। छुड़ाए गए सभी सातों लोग मजदूर हैं और आंध्रप्रदेश, बिहार और गुजरात के रहने वाले हैं। कुछ किडनैपर्स ने 14 सितंबर को इन्हें लीबिया के अस्वेरिफ इलाके से अगवा कर लिया था। इसके बाद से ही इन्हें छुड़ाने की कोशिश की जा रही थी।

लीबिया में भारत का दूतावास नहीं है। ऐसे में इन भारतीयों को छुड़ाने की जिम्मेदारी ट्यूनीशिया स्थित भारतीय मिशन को दी गई थी। ट्यूनीशिया के भारतीय दूतावास ने लीबिया सरकार और वहां की अंतरराष्ट्रीय संगठनों की मदद से इन्हें छुड़ाया है।

किडनैपर्स ने दिखाए थे अगवा भारतीयों के फोटो

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बीते गुरुवार को बताया था कि सभी भारतीय नागरिक सुरक्षित हैं। इन्हें काम पर रखने वाली कंपनी से किडनैपर्स ने संपर्क किया था। कंपनी को मजदूरों को फोटो दिखाकर यह यकीन दिलाया था कि उनके कर्मचारी अगवा हो गए हैं और सुरक्षित ढंग से उनके कब्जे में हैं। उन्होंने इन लोगों को छोड़ने के बदले फिरौती की मांग की थी। इसके बाद इन लोगों के परिवार ने केंद्र सरकार से उन्हें वापस भारत लाने के लिए मदद मांगी थी।

छुड़ाए गए लोग लीबिया में आयरन वेल्डर का काम करते थे

अगवा किए गए लोगों में मुन्ना चौहान, साह अजय, महेन्द्र सिंह, उमेदीब्राहिम भाई मुल्तानी, जोगाराव बतचाला और दनय्या बोद्धू शामिल हैं। सभी लीबिया की एनडी इंटरप्राइजेज कंपनी में आयरन वेल्डर का काम करते थे। 14 सितंबर को इन्हें भारत लौटने के लिए लीबिया के त्रिपोली एयरपोर्ट से फ्लाइट पकड़नी थी। कंपनी से एयरपोर्ट जाने के बीच हथियारों के साथ आए किडनैपर्स ने इन्हें अगवा कर लिया था।

फिलहाल भारतीयों के लीबिया जाने पर रोक है

सितंबर 2015 में भारत सरकार ने भारतीयों के लीबिया जाने के बारे में एडवाइजरी जारी की थी। सुरक्षा की स्थिति को देखते हुए लोगों से लीबिया न जाने की सलाह दी गई थी। मई 2016 में भारत सरकार ने लीबिया की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए भारतीयों के वहां जाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी जारी है।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply