ACC approves appointment of VK Yadav as Railway Board’s first ever Chairman and CEO | रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव अब बने सीईओ, उनकी नियुक्ति को मिली हरी झंडी, रेलवे के इतिहास में यह पद संभालने वाले वह पहले व्यक्ति


  • Hindi News
  • National
  • ACC Approves Appointment Of VK Yadav As Railway Board’s First Ever Chairman And CEO

नई दिल्ली4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

वर्तमान में वीके यादव रेलवे बोर्ड के चेयरमैन हैं। (फाइल फोटो)

  • इंडियन रेलवे मेडिकल सर्विस (आईआरएमएस) का नाम बदलकर इंडियन रेलवे हेल्थ सर्विस (आईआरएचएस) किया जाएगा
  • रेलवे ने कहा कि ये रिफॉर्म विभाग-वाद को खत्म करेगा और रेलवे के सुचारू कामकाज को बढ़ावा देगा

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव को अपॉइंटमेंट कमेटी ऑफ द कैबिनेट (एसीसी) ने सीईओ के पद पर अपॉइन्ट किए जाने को लेकर अपनी मंजूरी दे दी है। वह रेलवे के इतिहास में यह पद संभालने वाले पहले व्यक्ति होंगे। इससे पहले कैबिनेट ने रेलवे के पुनर्गठन को लेकर भी मंजूरी दी थी।

चूंकि, यादव को चेयरमैन और सीईओ नियुक्त किया गया है। ऐसे में प्रदीप कुमार को मेंबर, इंफ्रास्ट्रक्चर, पीसी शर्मा को मेंबर, ट्रैक्शन और रोलिंग स्टॉक, पीएस मिश्रा को मेंबर, ऑपरेशन एंड बिजनेस डेवलपमेंट और मंजुला रंगराजन को मेंबर फाइनेंस नियुक्त किया गया है।

डायरेक्टर जनरल (एचआर) की पोस्ट बनाई गई
एसीसी ने बताया कि कैबिनेट के फैसले के मुताबिक, रेलवे बोर्ड में 3 शीर्ष स्तर की पोस्ट मेंबर (स्टाफ), मेंबर (इंजीनियरिंग) और मेंबर (मैटेरियल मैनेजमेंट) को सरेंडर कर दिया गया है और मेंबर (रोलिंग स्टॉक) की पोस्ट का इस्तेमाल शीर्ष ग्रेड में डायरेक्टर जनरल (एचआर) की पोस्ट के क्रिएशन में किया गया है।

कैडर कंट्रोलिंग ऑफिसर होंगे सीईओ
रेलवे की योजना के मुताबिक, डीजी (एचआर) की सहायता से चेयरमैन और सीईओ मानव संसाधन (एचआर) के लिए जिम्मेदार कैडर कंट्रोलिंग ऑफिसर होंगे। इंडियन रेलवे मेडिकल सर्विस (आईआरएमएस) का नाम बदलकर इंडियन रेलवे हेल्थ सर्विस (आईआरएचएस) किया जाएगा।

रेलवे से संबंधित 8 विंग्स को मिलाकर भारतीय रेलवे प्रबंधन सेवा (आईआरएमएस) नाम की एक सेंट्रल सर्विस बनाने की प्रक्रिया चल रही है। रेलवे ने कहा कि ये रिफॉर्म विभाग-वाद को खत्म करेगा और रेलवे के सुचारू कामकाज को बढ़ावा देगा। इससे निर्णय लेने में तेजी आएगी, ऑर्गेनाइजेशन के लिए सुसंगत विजन तैयार होगा और तर्कसंगत फैसले लेने को बढ़ावा मिलेगा।

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply