After the violent skirmish in the Galvan Valley, the Indian Navy sent warships in the South China Sea | गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद भारतीय नौसेना ने दक्षिणी चीन सागर में तैनात कर दिए वॉरशिप


  • Hindi News
  • National
  • After The Violent Skirmish In The Galvan Valley, The Indian Navy Sent Warships In The South China Sea

नई दिल्ली18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दक्षिणी चीन सागर में किसी भी दूसरे देश की मौजूदगी को लेकर पीपल्स लिबरेशन आर्मी विरोध दर्ज करवाती रही है। इसकी वजह चीन का इस इलाके पर दावा पेश करना है। – फाइल फोटो

  • दक्षिणी चीन सागर में भारतीय नौसेना के वॉरशिप की तैनाती पर चीनी नौसेना और रक्षा सेनाओं ने विरोध जताया था
  • अमेरिकी नौसेना ने भी इस दौरान अपने घातक पोत और फ्रीगेट्स को दक्षिणी चीन सागर में लाकर तैनात कर दिया था

गलवान घाटी में 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसके बाद ही भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में वॉरशिप तैनात कर दिए थे। भारतीय नौसेना ने यह काम बेहद शांतिपूर्ण तरीके से पूरा किया। दोनों पक्षों के बीच जब डिप्लोमैटिक स्तर की बातचीत शुरू हुई तो चीन ने सबसे पहले भारत के इस कदम को लेकर नाराजगी जताई थी।

दरअसल, 2009 से लेकर अब तक चीन लगातार इस क्षेत्र में अपनी सैन्य मौजूदगी को बढ़ाते आया है। वहीं, भारत की सैन्य मौजूदगी को लेकर विरोध भी जताते रहता है।

इस इलाके को लेकर चीन हमेशा अपना दावा पेश करते आया है

इस मामले पर सरकारी सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएऩआई से कहा, ”गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद ही भारतीय नौसेना ने अपने वॉरशिप दक्षिण चीन सागर में तैनात कर दिए थे। हालांकि, इसे लेकर पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने विरोध दर्ज कराया था क्योंकि इस इलाके को लेकर चीन हमेशा अपना दावा पेश करते आया है।”

इस बीच भारतीय नौसेना ने भी अमेरिकी नौसेना के साथ संपर्क बनाए रखा था

भारतीय नौसेना के वॉरशिप की दक्षिणी चीन सागर में तैनाती के बाद चीनी नौसेना और रक्षा सेनाओं ने भारत के सामने इस मुद्दे को लेकर शिकायत भी की। हालांकि, इस दौरान अमेरिकी नौसेना ने भी अपने घातक पोत और फ्रीगेट्स को दक्षिणी चीन सागर में तैनात कर दिया था। इस बीच भारतीय नौसेना ने भी अमेरिकी नौसेना के साथ संपर्क बनाए रखा था।

भारतीय नौसेना ने इस पूरे मिशन को बेहद संतुलित तरीके से पूरा किया

दरअसल, यह नियमित अभ्यास ड्रील थी, ऐसे में भारतीय नौसेना के वॉरशिप को उस इलाके में मौजूद दूसरे देशों के यूद्धपोत के बारे में अपडेट किया जा रहा था। भारतीय नौसेना ने इस पूरे मिशन को बेहद संतुलित तरीके से पूरा किया। कहीं किसी तरह की पब्लिसिटी नहीं की गई।

हिंद महासागर क्षेत्र में सतर्कता को बढ़ाने की तैयारी

सूत्रों ने बताया कि भारतीय नौसेना हिंद महासागर के ईर्द-गिर्द होने वाली किसी भी तरह की गैर-जरूरी गतिविधि से निपटने में पूरी तरह सक्षम है। नौसेना की योजना है जल्द ही हिंद महासागर क्षेत्र में सतर्कता बढ़ाने के लिए सिस्टम को और भी मजबूत कर लिया जाए। इसके लिए कुछ और इक्विपमेंट जुटाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें

कोरोना संकट के बीच नौसेना सतर्क, आसमान से भी निगरानी; पाकिस्तान और चीन की समुद्र में गतिविधियों पर पैनी नजर

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply