Dawood Ibrahim Imran Khan | Dawood Ibrahim In Pakistan Karachi News Today Updates; Imran Khan Government And Army | डोमेनिकन सरकार ने कहा- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम हमारे देश का नागरिक नहीं, मीडिया में फैलाई जा रहीं झूठी खबरें


  • Hindi News
  • National
  • Dawood Ibrahim Imran Khan | Dawood Ibrahim In Pakistan Karachi News Today Updates; Imran Khan Government And Army

नई दिल्ली6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान ने अपने मुल्क में दाऊद इब्राहिम की मौजूदगी की बात कबूली थी। पाकिस्तान ने 88 आतंकियों की लिस्ट जारी की थी। (फाइल फोटो)

  • सरकार ने बयान में कहा- दाऊद इंवेस्टमेंट प्रोग्राम या किसी और तरीके से भी कॉमनवेल्थ ऑफ डोमिनिका का नागरिक नहीं
  • पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान ने अपने मुल्क में दाऊद इब्राहिम की मौजूदगी की बात कबूली थी, बाद में मुकर गया था

डोमिनिका सरकार ने भारत का मोस्ट वांटेड आतंकी दाऊद इब्राहिम को लेकर बड़ा बयान दिया है। डोमिनिका सरकार ने कहा है कि अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम उनके देश का नागरिक नहीं है और न ही कभी था। सरकार ने अपने बयान में कहा कि दाऊद इब्राहिम कभी भी डोमेनिका का नागरिक नहीं रहा है। दाऊद इंवेस्टमेंट प्रोग्राम या किसी और तरीके से भी कॉमनवेल्थ ऑफ डोमिनिका का नागरिक नहीं रहा है। सरकार ने कहा कि मीडिया या किसी भी व्यक्ति द्वारा फैलाई जा रही ऐसे खबरें सरासर झूठी हैं।

पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान ने जारी की थी लिस्ट
पिछले हफ्ते ही पाकिस्तान ने अपने मुल्क में दाऊद इब्राहिम की मौजूदगी की बात कबूली थी। पाकिस्तान ने 88 आतंकियों की लिस्ट जारी की थी। इसमें 1993 के मुंबई सीरियल ब्लास्ट के मास्टरमाइंड और मोस्ट वॉन्टेड आतंकी दाऊद इब्राहिम का भी नाम था। बड़ी बात यह थी कि यह कि इस लिस्ट में दाऊद के नाम के साथ यह भी बताया गया कि वह 14 पासपोर्ट रखता है और कराची में उसके तीन घर हैं। हालांकि बाद में पाकिस्तान ने इससे इनकार किया था।

दाऊद 1993 के मुंबई बम धमाकों के बाद पाकिस्तान भाग गया था। इन धमाकों में 257 की जान चली गई थी और 1400 से ज्यादा लोग जख्मी हो गए थे। इसके बाद दाऊद के पाकिस्तान के अलग-अलग शहरों में होने की खबरें आती रहीं, लेकिन पाक ने उसकी मौजूदगी के बारे में खुलकर कभी नहीं कबूला।

ब्लैक लिस्ट से बचने के लिए ऐसा किया था
पाकिस्तान आतंकियों से निपटने के मामले में अपने खराब रिकॉर्ड के कारण 2018 से इस टास्क फोर्स की ग्रे लिस्ट में है। एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट में होना यानी दुनियाभर से आर्थिक मदद मिलने में परेशानी। पाकिस्तान को उम्मीद थी कि आतंकियों के नाम बताकर अगर वह उनके खिलाफ कदम उठाता है तो वह ग्रे लिस्ट से बाहर आ सकता है।

ये भी पढ़ सकते हैं…

1. मोस्ट वॉन्टेड दाऊद इब्राहिम से छुटकारा पाना चाहती है इमरान सरकार, आर्मी भी उसे खत्म कर देना चाहती है, लेकिन पाक से बाहर

2. पाकिस्तान ने पहली बार माना- दाऊद इब्राहिम के पास 14 पासपोर्ट और कराची में 3 घर; दुनिया में बदनामी से बचने के लिए 88 आतंकियों पर प्रतिबंध लगाए

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply