Facebook responds to Congress’s charge of political bias, says it is non-partisan and denounces hate | हेट स्पीच मामले में सोशल मीडिया कंपनी ने कहा- हम निष्पक्ष हैं और हर तरह की कट्टरता की निंदा करते हैं


  • Hindi News
  • National
  • Facebook Responds To Congress’s Charge Of Political Bias, Says It Is Non partisan And Denounces Hate

नई दिल्ली12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फेसबुक ने कहा है कि हमने कांग्रेस के पक्षपात होने के आरोपों को बेहद गंभीरता से लिया है। हम कोशिश करते हैं कि यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म बना रहे जहां लोग खुलकर अपने विचार रख सकें। -फाइल फोटो

  • फेसबुक ने भारत के मामलों में हस्तक्षेप क लेकर कांग्रेस की चिंताओं को स्वीकार कर लिया है: कांग्रेस
  • कांग्रेस ने फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग को चिट्ठी लिखकर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया था

फेसबुक हेट स्पीच मामले में हाल ही में कांग्रेस ने फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग को चिट्ठी लिखकर दोहरा रवैया अपनाने का आरोप लगाया था। इसके जवाब में फेसबुक ने गुरुवार को कहा कि हम किसी तरह का पक्षपात नहीं करते हैं। हम घृणा और कट्टरता के सभी रूपों की निंदा करते हैं। साथ ही यह सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं कि यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म बना रहे जहां लोग खुले मन से अपने विचार रख सकें।

कांग्रेस की चिंताओं पर प्रतिक्रिया देते हुए फेसबुक के पब्लिक पॉलिसी, ट्रस्ट एंड सेफ्टी निदेशक नील पोट्स ने कहा कि फेसबुक ने पक्षपात के आरोपों को बेहद गंभीरता से लिया है। हम किसी के पक्ष में नहीं हैं और पूरी ईमानदारी बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

कांग्रेस ने फेसबुक पर भारत की लोकतांत्रिक प्रक्रिया और सामाजिक सद्भाव में हस्तक्षेप करने और सत्तारूढ़ भाजपा के सदस्यों के साथ नरम होने का आरोप लगाया था। साथ ही कहा था कि हम भारत में इस मामले पर कानूनी सलाह ले रहें। अगर जरूरत पड़ी तो कार्रवाई भी की जाएगी। ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि एक विदेशी कंपनी देश के सामाजिक ताने-बाने को नुकसान न पहुंचा सके।

वॉल स्ट्रीट जर्नल और टाइम मैग्जीन की रिपोर्ट पर विवाद

कांग्रेस ने वॉल स्ट्रीट जर्नल और टाइम मैग्जीन की रिपोर्टों को आधार बनाकर फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को लेटर लिखा था। वॉल स्ट्रीट और टाइम में शुक्रवार को एक रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी, जिनमें फेसबुक पर पक्षपात और सत्तारूढ़ भाजपा के साथ निकटता का दावा किया गया था।

Facebook responds to Congress's charge of political bias, says it is non-partisan and denounces hate | हेट स्पीच मामले में सोशल मीडिया कंपनी ने कहा- हम निष्पक्ष हैं और हर तरह की कट्टरता की निंदा करते हैं

कांग्रेस ने एक महीने में दो बार फेसबुक को चिट्ठी लिखी

हेट स्पीच मामले में कांग्रेस के महासचिव के वेणुगोपाल पिछले एक महीने में दो बार फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग को लेटर लिख चुके हैं। हेट स्पीच को लेकर पॉट्स ने जवाब दिया- हम आपको यकीन दिलाते हैं कि हमारी कम्युनिटी स्टैंडर्ड के मुताबिक, धर्म, जाति,नस्ल, किसी देश से ताल्लुक रखने या किसी कमी से जूझ रहे लोगों पर टिप्पणी करने पर पाबंदी है। अपनी पॉलिसी के तहत हमने भारत में अपने प्लेटफॉर्म से कुछ लोगों के नफरत भरे कंटेट हटाए हैं और ऐसा करना जारी रखेंगे।

कांग्रेस के डेटा एनालिटिक्स विभाग के प्रमुख प्रवीण चक्रवर्ती ने कहा कि फेसबुक ने भारत के मामलों में हस्तक्षेप के बारे में कांग्रेस की चिंताओं को स्वीकार कर लिया है और सुधारात्मक उपायों का वादा किया है, लेकिन आगे के ठोस उपायों का इंतजार है।

Facebook responds to Congress's charge of political bias, says it is non-partisan and denounces hate | हेट स्पीच मामले में सोशल मीडिया कंपनी ने कहा- हम निष्पक्ष हैं और हर तरह की कट्टरता की निंदा करते हैं

रविशंकर प्रसाद ने भी फेसबुक के भारतीय मैनेजमेंट पर आरोप लगाया

आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद ने भी फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को चिट्ठी लिखी थी। उन्होंने इस बात पर गहरी चिंता जाहिर की थी कि 2019 के चुनाव से पहले फेसबुक के भारतीय मैनेजमेंट ने दक्षिणपंथी पेजों को अपने सोशल मीडिया से डिलीट कर दिया था और इनकी रीच यानी पहुंच को कम कर दिया था। रविशंकर ने कहा था कि आपके कर्मचारियों ने मोदी सरकार के अधिकारियों को अपशब्द कहे और यह ऑन रिकॉर्ड है।

तीन पेज के लेटर में आईटी मिनिस्टर ने कहा- ऐसा लगता है कि जो किया गया है, वह आपकी फेसबुक इंडिया टीम के लोगों के प्रबल और व्यक्तिगत राजनीतिक धारणाओं का नतीजा है। हाल ही में सूत्रों के आधार पर दी गई रिपोर्ट्स कुछ नहीं हैं, बस आपकी कंपनी में एक वैचारिक प्रधानता के लिए चल रही लड़ाई है।

हेट स्पीच जैसे मामले देखने के लिए हमारे पास एक्सपर्ट्स

फेसबुक ने कहा, ‘‘हमारे पास एक टीम है जो आतंक या एकजुट होकर नफरत फैलाने जैसे मामलों की एक्सपर्ट है। यह हमेशा इससे जुड़े ग्लोबल और रीजनल ट्रेंड पर नजर रखती है। यह कंपनी को ऐसे मामलों में सलाद देती है। ये फैसले किसी एक इंसान की ओर से एकतरफा नहीं लिए हैं। इसे कंपनी की टीम की ओर से रखी गई राय के आधार पर लिया गया है। यह एक प्रोसेस है, जिससे हम ग्लोबल और रीजनल मुद्दों को समझते हैं और उस पर गौर करते हैं।’’

राहुल ने भी फेसबुक पर आरोप लगाए थे

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी 29 अगस्त को ट्वीट कर कहा था, “टाइम ने वॉट्सऐप और भाजपा की साठगांठ का खुलासा किया है। 40 करोड़ भारतीय यूजर वाला वॉट्सऐप पेमेंट सर्विस भी शुरू करना चाहता है, इसके लिए मोदी सरकार की मंजूरी जरूरी है। इस तरह वॉट्सऐप पर भाजपा के नियंत्रण का पता चलता है।” टाइम की रिपोर्ट में कहा गया था कि फेसबुक भाजपा नेताओं के मामलों में भेदभाव करती है। वॉट्सऐप भी फेसबुक की कंपनी है।

ये भी पढ़ें…

फेसबुक ‘हेट स्पीच पोस्ट’ विवाद:कांग्रेस ने एक महीने में दूसरी बार मार्क जकरबर्ग को चिट्ठी लिखी; पूछा- हेट स्पीच पोस्ट हटाने के आरोपों पर क्या कदम उठाए

रविशंकर प्रसाद की जुकरबर्ग को चिट्‌ठी:आईटी मिनिस्टर ने फेसबुक के सीईओ को लिखा- आपका स्टाफ मीडिया के साथ मिलकर हमारे लोकतंत्र पर कलंक लगा रहा है

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply