Gunjan Saxena Reaction On Her Upcoming Biopic Says Lucky Few Like Me Have Sharan And Janhvi Kapoor – गुंजन सक्सेना ने अपनी अपकमिंग बायोपिक पर दिया रिएक्शन, बोलीं


गुंजन सक्सेना (Gunjan Saxena) ने अपनी अपकमिंग बायोपिक पर दिया रिएक्शन

खास बातें

  • गुंजन सक्सेना ने अपनी अपकमिंग बायोपिक को लेकर दिया रिएक्शन
  • गुंजन सक्सेना ने कहा कि भाग्य से मेरे पास जाह्नवी और शरण हैं
  • जल्द ही रिलीज होने वाली है जाह्नवी कपूर अभिनीत गुंजन सक्सेना की बायोपिक

नई दिल्‍ली:

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) जल्द ही गुंजन सक्सेना (Gunjan Saxena) की बायोपिक में नजर आने वाली हैं. बीते दिन गुंजन सक्सेना फिल्म से जुड़ा टीजर भी रिलीज हुआ था, जिसमें गुंजन सक्सेना के जीवन के बारे में बखूबी बताया गया था. इस फिल्म को लेकर दर्शकों में भी खूब एक्साइटमेंट देखने को मिल रही है. वहीं, जाह्नवी कपूर ने भी टीजर को साझा करते हुए कहा कि यह उनके लिए केवल फिल्म नहीं है, बल्कि खुद में विश्वास करने के लिए एक सफर जैसा है. वहीं, इस फिल्म को लेकर खुद इसकी असल हीरो यानी गुंजन सक्सेना ने अपना रिएक्शन दिया है, साथ ही उन्होंने फिल्म का पोस्टर भी अपने इंस्टाग्राम एकाउंट से शेयर किया है. 

यह भी पढ़ें

गुंजन सक्सेना (Gunjan Saxena) ने जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) के इस पोस्टर को साझा करते हुए लिखा, “मेरे मोंताज को जाह्नवी के वॉइस ओवर के साथ देखने के बाद बहुत सी पुरानी यादें मेरे सामने दोबारा से चमकने लगी हैं. मुझे लगता है कि यह एक समृद्ध यात्रा के पूरा होने का समय है, जो शरण के साथ तीन महीने पहले शुरू हुई थी. और यह शरण के साथ क्या यात्रा रही है. मैंने हमेशा बड़े पर्दे पर अपने जीवन को चित्रित करते हुए उनकी ईमानदारी, समझदारी और संवेदनशीलता की प्रशंसा की है. मेरी उम्र के हर व्यक्ति के पास बताने के लिए एक कहानी है. भाग्य से मेरे पास शरण और जाह्नवी हैं, इस कहानी को बताने के लिए.”

गुंजन सक्सेना (Gunjan Saxena) ने अपनी पोस्ट में आगे लिखा, “किसी के भी जीवन का सफर केवल पार्क में चलने के जैसा नहीं होता और मेरा भी कोई अलग नहीं था. लेकिन एक समय पर दिमाग लक्ष्य तक पहुंचने में मदद करता है. IAF में अपने कार्यकाल के दौरान, जो कुछ भी मैं हासिल कर सकी, वह नीली वर्दी में पुरुषों और महिलाओं की मदद से था. मुझे उम्मीद है कि हर कोई फिल्म का आनंद लेगा, केवल इसलिए नहीं कि यह मेरी कहानी है, बल्कि इसलिए कि इसमें शरण और उनकी टीम ने बहुत ईमानदारी से काम किया है.” बता दें कि गुंजन सक्सेना युद्ध में जाने वाली पहली भारतीय महिला एयरफोर्स पायलट थीं.

 





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply