LJP को राज्यसभा सीट नहीं देने के लिए JDU ने BJP पर बढ़ाया दबाव, बिहार चुनाव के नतीजों के बाद होगा फैसला


बिहार में जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के बीच घमासान कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इन दोनों दलों के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की उलझन भी लगातार बढ़ती जा रही है। जेडीयू ने अब भाजपा पर यह दबाव बढ़ाना शुरू कर दिया है कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई सीट लोजपा को न दी जाए और मंत्रिमंडल में भी चिराग को शामिल न किया जाए।

बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए के भीतर सीटों के बंटवारे पर विवाद के चलते लोजपा ने गठबंधन से बाहर जाकर अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया है। लोजपा नेता चिराग पासवान का पूरा जोर जेडीयू के खिलाफ है। वह खुलेआम नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। ऐसे में भाजपा को गठबंधन में सहयोगी जेडीयू के दबाव में लोजपा के खिलाफ सख्ती बरतनी पड़ रही है। भाजपा ने लोजपा को वोट कटवा तक करार दिया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फोटो इस्तेमाल न करने की चेतावनी भी दे डाली है।

यह भी पढ़ें- चिराग पासवान के खिलाफ और सख्त हुई BJP, सुशील मोदी ने कहा- एक सीट भी नहीं जीतेगी LJP

नरम नहीं पड़ रहे चिराग पासवान
इसके बाद भी चिराग पासवान के तेवर नरम नहीं पड़े हैं और वह जेडीयू के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बता चुके चिराग अभी भी भाजपा के साथ अपनी करीबी बताने में नहीं चूकते हैं। हालांकि इससे जेडीयू की परेशानी बढ़ रही है और वह भाजपा पर लोजपा से केंद्र में भी संबंध तोड़ने का दबाव बढ़ा रही है। रामविलास पासवान के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट को लेकर भी जेडीयू का कहना है कि अब वह लोजपा को नहीं दी जाएगी। इतना ही नहीं जेडीयू यह भी चाहती है कि रामविलास पासवान की जगह उनके बेटे चिराग पासवान को भी केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल भी न किया जाए। ऐसा होने पर लोजपा का राजग से पूरी तरह बाहर होना जय हो जाएगा।

यह भी पढ़ें- कांग्रेस का आरोप, चिराग से अपना घर रोशन और नीतीश का घर फूंकना चाहती BJP

भाजपा ने चुप्पी साध रखी
हालांकि भाजपा ने फिलहाल जेडीयू के इस तरह के दबाव पर चुप्पी साध रखी है। वह इस पूरे मामले को बिहार के विधानसभा चुनाव तक सीमित रखना चाहती है और नतीजे आने के बाद वह अपनी भावी रणनीति तय करेगी। दरअसल भाजपा लोजपा को छोड़ना नहीं चाहती है, क्योंकि इससे देश भर के दलित वर्ग में गलत संदेश जाएगा। वैसे भी रामविलास पासवान के निधन के बाद दलित सहानुभूति फिलहाल लोजपा के पास है और केंद्रीय स्तर पर वह भाजपा को भी मिल रही है। ऐसे में भाजपा जेडीयू के दबाव में लोजपा को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेना चाहती है।

भाजपा नेताओं का कहना है कि जेडीयू ने भी राज्य और केंद्र के स्तर पर अलग-अलग नीति बना रही है। राज्य में भाजपा और जेडीयू की गठबंधन सरकार है, लेकिन जेडीयू अभी तक केंद्र सरकार में शामिल नहीं हुआ है। पिछली लोकसभा में और मौजूदा लोकसभा में भी उसने मोदी सरकार में शामिल होने से इंकार कर दिया था। हालांकि भाजपा ने उसे सरकार में शामिल होने का न्योता दिया था।



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply