Pratigya Actor Anupam Shyam Admitted In ICU Actor Brother Seek Help For His Treatment


अनुपम श्याम (Anupam Shyam) आईसीयू में हैं एडमिट

खास बातें

  • प्रतिज्ञा एक्टर अनुपम श्याम आईसीयू में हैं एडमिट
  • किडनी की समस्या से जूझ रहे हैं एक्टर
  • अनुपम श्याम के भाई ने मांगी आर्थिक मदद

नई दिल्‍ली:

टीवी सीरियल ‘प्रतिज्ञा’, ‘कृष्णा चली लंदन’ और ‘नायक’ जैसी बॉलीवुड फिल्मों से अपनी पहचान बनाने वाले अनुपम श्याम (Anupam Shyam) पर इन दिनों दुखों का पहाड़ टूट चुका है. अनुपम श्याम किडनी की समस्या के कारण बीती रात से ही गोरेगांव वेस्ट में लाइफलाइन मेडिकेयर हॉस्पिटल में एडमिट हैं. एक्टर की हालत काफी गंभीर है और इस समय वह आईसीयू में हैं. अनुपम श्याम करीब छह महीने से ही अपनी इस मेडिकल कंडीशन से जूझ रहे हैं. इसके साथ ही एक्टर को ऐसे समय में आर्थिक तंगी का भी सामना करना पड़ रहा है, जिसे लेकर उनके छोटे भाई अनुराग श्याम ओझा ने आगे आकर मदद मांगने का निर्णय किया है. 

यह भी पढ़ें

स्पॉटबॉय डॉट कॉम की खबर के मुताबिक अनुराग श्याम (Anurag Shyam) ने बड़े भाई अनुपम श्याम (Anupam Shyam) के बारे में बात करते हुए कहा, “उनकी तबीयत बीते छह महीने से ही खराब चल रही है. उनकी किडनी में इंफेक्शन है, जिसके कारण उन्हें हिंदुजा हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया. वहां उनका करीब डेढ़ महीने तक इलाज चला. उस समय उनकी तबीयत ठीक हो गई थी, लेकिन उन्हें समय-समय पर डायलिसिस पर रहने की सलाह दी गई. लेकिन डायलिसिस की अधिक कीमतों के कारण उन्होंने आयुर्वेदिक इलाज कराने का निर्णय किया. लेकिन यह काम नहीं आया. डायलिसिस पर न जाने के कारण उन्हें सांस लेने में भी परेशानी होने लगी. उनके चेस्ट में पानी भर गया, जिससे हम उन्हें डायलिसिस के लिए लेकर गए. हालांकि, अब उन्हें थोड़ा आराम भी मिल रहा है.”

अनुपम श्याम (Anupam Shyam) के छोटे भाई ने आगे बताया, “मैं मालाड़ हॉस्पिटल में उनका डायलिसिस करा रहा था, लेकिन कल अचानक डायलिसिस के बाद वह अचानक गिर गए और उन्होंने हमें इन्हें किसी और हॉस्पिटल में एडमिट कराने की सलाह दी, जहां आईसीयू भी मौजूद हो. ऐसे में हम उन्हें इस हॉस्पिटल में लेकर आए, लेकिन यह थोड़ा महंगा था और हमारे पास इलाज के लिए अब ज्यादा पैसे नहीं बचे हैं. जो भी उन्होंने कमाया था, वह उनकी दवा पर खर्च हो चुका है. हमें पैसों की सख्त जरूरत है. मैं आप लोगों से निवेदन करता हूं कि इन शब्दों को फैलाएं, ताकि कोई आगे आए और हमारी मदद कर सकें.”





Source link

Be the first to comment

Leave a Reply