Rajasthan political crisis: Row between Ashok gehlot and Governor Kalraj Mishra on assembly session | मुख्यमंत्री आवास पर आज कैबिनेट की बैठक; सत्र बुलाने के लिए राज्यपाल के पास तीसरी बार अर्जी लगा सकती है सरकार


  • Hindi News
  • National
  • Rajasthan Political Crisis: Row Between Ashok Gehlot And Governor Kalraj Mishra On Assembly Session

जयपुर4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • राज्यपाल ने 2 बार अर्जी खारिज करने के बाद 21 दिन का नोटिस देने की शर्त रखी
  • पायलट गुट का दावा- गहलोत कैंप के 13 विधायक संपर्क में, बाड़ेबंदी से छूटने का इंतजार

राजस्थान में सियासी उठापटक का आज 19वां दिन है। थोड़ी देर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के घर कैबिनेट की बैठक होगी। इसमें विधानसभा सत्र बुलाने के मुद्दे पर चर्चा की उम्मीद है। इसके लिए राज्यपाल कलराज मिश्र के सवालों का जवाब तैयार कर सरकार तीसरी बार अर्जी दे सकती है। इससे पहले 2 बार मांग खारिज करने के बाद राज्यपाल ने सोमवार को कहा कि सत्र बुलाने के लिए तैयार हैं, लेकिन सरकार को 21 दिन को नोटिस देने की शर्त माननी पड़ेगी। राज्यपाल ने सरकार से 2 सवाल भी किए।

पहला सवाल- क्या आप विश्वास मत प्रस्ताव चाहते हैं? यदि किसी भी परिस्थिति में विश्वास मत हासिल करने की कार्यवाही की जाती है तो यह संसदीय कार्य विभाग के प्रमुख सचिव की मौजूदगी में हो और वीडियो रिकॉर्डिंग करवाई जाए। इसका लाइव टेलीकास्ट भी होना चाहिए।

दूसरा सवाल- यह भी साफ किया जाए कि विधानसभा का सत्र बुलाया जाता है तो सोशल डिस्टेंसिंग कैसे रखी जाएगी? क्या कोई ऐसी व्यवस्था है जिसमें 200 सदस्य और 1000 से ज्यादा अधिकारियों-कर्मचारियों के इकट्ठे होने पर उनमें संक्रमण का खतरा नहीं हो। यदि किसी को संक्रमण हुआ तो उसे फैलने से कैसे रोका जाएगा?

गहलोत ने राष्ट्रपति से दखल की मांग की
दूसरी तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्यपाल के रवैए को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है। साथ ही राष्ट्रपति को अर्जी भेजकर कहा है कि राज्यपाल सत्र चलाने की मंजूरी नहीं दे रहे, इसलिए आप दखल दीजिए।

पायलट खेमे के 3 विधायक संपर्क में: कांग्रेस
सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दावा किया कि पायलट खेमे के 3 विधायक उनके संपर्क में हैं और 48 घंटे में जयपुर पहुंच जाएंगे। बाकी एमएलए भी लौटना चाहें तो सोनिया और राहुल गांधी से बात कर उन्हें माफी दिलवा देंगे। उनकी सदस्यता को कोई खतरा नहीं रहेगा। सुरजेवाला के इस दावे पर पायलट खेमे के विधायक हेमाराम ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि पायलट गुट का एक भी विधायक इधर-उधर नहीं होगा, लेकिन गहलोत कैंप के 13 विधायक उनके संपर्क में हैं और बाड़ेबंदी खत्म होते ही हमारे पास आ जाएंगे।

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply