RP Singh on what led to MSD’s retirement। MS Dhoni was not able to finish off games the way he used to earlier | पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने कहा- धोनी पहले की तरह मैच फिनिश नहीं कर पा रहे थे, इसी वजह से उन्होंने रिटायरमेंट लिया


  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • RP Singh On What Led To MSD’s Retirement। MS Dhoni Was Not Able To Finish Off Games The Way He Used To Earlier

8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महेंद्र सिंह धोनी ने आखिरी वनडे पिछले साल हुए वर्ल्ड कप में खेला था। तब न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए सेमीफाइनल में उन्होंने 50 रन की पारी खेली थी। -फाइल

  • आरपी सिंह ने कहा- बढ़ती उम्र की वजह से महेंद्र सिंह धोनी के लिए खुद को मैच फिट रखना बड़ी चुनौती थी
  • महेंद्र सिंह धोनी ने 15 अगस्त को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो मैसेज पोस्ट कर इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट लिया था

टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी पहले की तरह मैच फिनिश नहीं कर पा रहे थे, इसलिए उन्होंने रिटायरमेंट का फैसला किया। उनकी फिटनेस और टी-20 वर्ल्ड कप का एक साल के लिए टलना भी उनकी रिटायरमेंट की बड़ी वजह बना। इस गेंदबाज ने एक क्रिकेट वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में यह बातें कहीं।

सिंह ने आगे कहा कि बेशक वह टी-20 के बड़े खिलाड़ी रहे हैं। वह बड़े टूर्नामेंट में खेलने का इंतजार करना चाहते थे। लेकिन बढ़ती उम्र और खुद को हमेशा मैच फिट रखने की चुनौती के कारण उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहना का फैसला लिया। अगर आईपीएल को छोड़ दें, तो पिछले 12-15 महीनों में वनडे में उन्हें बल्लेबाजी करने का ज्यादा मौका नहीं मिला।

धोनी वर्ल्ड कप में 4 नंबर पर बल्लेबाजी करना चाहते थे: आरपी सिंह

इस बाएं हाथ के गेंदबाज ने कहा कि वे पिछले साल इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप में चार नंबर पर बल्लेबाजी करना चाहते थे, लेकिन टीम मैनजमेंट की वजह से ऐसा नहीं हो पाया और उन्हें लोअर ऑर्डर में खेलना पड़ा। उन्हें सेमीफाइनल मैच तक, तो बल्लेबाजी का मौका ही नहीं मिला। वह पहले की तरह मैच फिनिश नहीं कर पा रहे थे। शायद इस बात ने भी उनको इशारा दिया था कि अब उनका करियर ढलान की ओर है और उन्हें अपने भविष्य के बारे में फैसला करना होगा।

धोनी रणनीति बनाने में माहिर थे

उन्होंने कहा कि धोनी विरोधी टीम के खिलाफ रणनीति बनाने में माहिर थे। वे विरोधी टीम की हर चाल को भांप कर उनसे एक कदम आगे की सोचते थे। इसके लिए उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 2007 टी-20 वर्ल्ड कप फाइनल में मोहम्मद हफीज को आउट करने का उदाहरण दिया। आरपी ने कहा कि धोनी ने जानबूझकर थर्ड और फोर्थ स्लिप के बीच में एक फील्डर लगाया था। तब मैंने उनसे कहा था कि फील्डर्स की पोजीशन ठीक नहीं है, तो उन्होंने कहा कि हफीज की थर्ड और फोर्थ स्लिप के बीच में खेलने की आदत है। इसलिए यहां फील्डर लगाया है। वह हमेशा दूर की सोचते थे।

15 अगस्त को धोनी ने रिटायरमेंट की थी घोषणा
धोनी ने 15 अगस्त को इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट कर इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट लिया था। धोनी ने 350 वनडे खेले। उन्होंने आखिरी वनडे वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में खेला था। इस मैच में उन्होंने 72 गेंदों में 50 रन बनाए थे। हालांकि, वह भारत को फाइनल में नहीं पहुंचा सके थे।

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply