Thermal and coking coal imports at major ports declined 31 pc to 37 million tonnes in April July period | प्रमुख बंदरगाहों पर थर्मल और कोकिंग कोल का आयात घटा, अप्रैल-जुलाई अवधि में 31% गिरकर 3.7 करोड़ टन रहा


  • Hindi News
  • Business
  • Thermal And Coking Coal Imports At Major Ports Declined 31 Pc To 37 Million Tonnes In April July Period

नई दिल्ली15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश में 70% बिजली का उत्पादन थर्मल कोल से होता है, जबकि कोकिंग कोल का उपयोग स्टील बनाने में किया जाता है

  • थर्मल कोल का आयात 30% घटकर 2.319 करोड़ टन रहा
  • कोकिंग कोल का आयात 32.26% गिरकर 1.351 करोड़ टन रहा

कोरोनावायरस महामारी और लॉकडाउन का असर थर्मल कोल और कोकिंग कोल के आयात पर भी पड़ा है। देश के 12 प्रमुख बंदरगाहों पर इनका आयात अप्रैल-जुलाई 2020 अवधि में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 30.83 फीसदी गिरकर 3.67 करोड़ टन पर आ गया। देश में 70% फीसदी बिजली का उत्पादन थर्मल कोल से होता है, जबकि कोकिंग कोल का उपयोग स्टील बनाने में किया जाता है।

केंद्र सरकार के इन बंदरगाहों का कार्गो डाटा रखने वाले इंडियन पोर्ट्स एसोसिएशन (आईपीए) ने कहा कि अप्रैल-जुलाई अवधि में थर्मल कोल का आयात 30 फीसदी घटकर 2.319 करोड़ टन रहा। कोकिंग कोल का आयात इस दौरान 32.26 फीसदी गिरकर 1.351 करोड़ टन रहा। केंद्र सरकार के इन 12 बंदरगाहों पर कोयला आयात के वॉल्यूम में जुलाई में लगातार चौथे महीने गिरावट दर्ज की गई। पिछले साल अप्रैल से जुलाई तक की अवधि में इन 12 बंदरगाहों के जरिये 3.311 करोड़ टन थर्मल कोक और 1.994 करोड़ टन कोकिंग कोल का आयात हुआ था।

कोयले का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है भारत

चीन और अमेरिका के बाद भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कोयला उत्पादक देश है। भारत के पास 299 अरब टन का कोयला भंडार होने का अनुमान है और 123 अरब टन का प्रमाणित भंडार है। यह अगले 100 से ज्यादा साल तक के लिए काफी है।

देश का 61% कार्गो ट्रैफिक हैंडल करते हैं ये 12 बंदरगाह

देश के 12 प्रमुख बंदरगाहों में दीनदयाल (पुराना नाम कांदला), मुंबई, जेएनपीटी, मोर्मुगाव, न्यू मंगलुरु, कोच्चि, चेन्नई, कामराजार (पुराना नाम एन्नोर), वीओ चिदंबरनार, विशाखापट्‌टनम, पारादीप और कोलकाता (हल्दिया सहित) शामिल हैं। इनका नियंत्रण केंद्र सरकार करती है। ये 12 प्रमुख बंदरगाह देश का 61 फीसदी कार्गो ट्रैफिक हैंडल करते हैं। कारोबारी साल 2019-20 में इन बंदरगाहों ने कुल 70.5 करोड़ टन कार्गो ट्रैफिक हैंडल किया था। कोरोनावायरस महामारी फैलने के बाद कंटेनर्स, कोयला और पोल (पेट्र्रोलियम, ऑयल और लुब्रिकेंट) की हैंडलिंग में भारी गिरावट आई है।

प्रमुख बंदरगाहों पर कार्गो हैंडलिंग में 18% की गिरावट, अप्रैल से जुलाई तक की अवधि में घटकर 19.3 करोड़ टन पर आई

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply