US China India | US to hold high level talks with Australia Japan and India to counter China. | अमेरिकी एनएसए ने कहा- सितंबर और अक्टूबर में भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के साथ रणनीति बनाएंगे, चीन के व्यवहार बेहद आक्रामक


  • Hindi News
  • International
  • US China India | US To Hold High Level Talks With Australia Japan And India To Counter China.

वॉशिंगटन9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

वॉशिंगटन में शनिवार को मीडिया से बातचीत के दौरान अमेरिका के एनएसए रॉबर्ट ओब्रायन। रॉबर्ट ने कहा- चीन दुनिया के किसी समुद्री रास्ते को अपने फायदे के लिए बंद नहीं कर सकता। अमेरिका और उसके सहयोगी ऐसा नहीं होने देंगे।

  • अमेरिका के एनएसए रॉबर्ट ओब्रायन ने कहा- चीन का रुख बेहद आक्रामक है, हम जानते हैं कि इससे कैसे निपटा जा सकता है
  • ब्रायन ने कहा कि चारों देशों के अफसरों की बातचीत से पहले विदेश मंत्री माइक पोम्पियो अपने समकक्षों से बातचीत करेंगे

साउथ चाइनना सी समेत दुनिया के कई हिस्सों में चीन के रुख को अमेरिका ने बेहद आक्रामक बताते हुए इसका मुकाबला करने की तैयारी पर जोर दिया है। अमेरिका के एनएसए रॉबर्ट ओब्रायन ने साफ कर दिया है कि सितंबर और अक्टूबर में अमेरिका, भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के अफसर मुलाकात करके रणनीति तैयार करेंगे। ब्रायन ने कहा- चीन का रवैया बेहद आक्रामक है और अमेरिका जानता है कि इससे कैसे निपटना है।

पहले पोम्पियो करेंगे बातचीत
ब्रायन ने कहा कि अफसरों की मीटिंग से पहले विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत, जापान और ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रियों से बातचीत करेंगे। इस दौरान मीटिंग का एजेंडा तय होगा। उन्होंने कहा- हिंद महासागर में चीन की हरकतें सहन नहीं की जा सकतीं।

चीन को तीन तरफ से घेरा जाएगा
ब्रायन ने कहा हिंद महासागर और दक्षिण चीन सागर में चीन जो कर रहा है, उसका मुकाबला सटीक तरीके से किया जाएगा। अमेरिका यहां बड़ी भूमिका निभाने के लिए तैयार है। हम कूटनीतिक, सैन्य और आर्थिक स्तर पर इस मुकाबले की रणनीति तैयार करने जा रहे हैं। चीन को अपनी हरकतों का खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

समुद्र पर चीन का हक नहीं
एक सवाल के जवाब में रॉबर्ट ने कहा- चीन को यह समझ लेना चाहिए कि वो दुनिया के किसी समुद्री क्षेत्र को सिर्फ अपना नहीं बता सकता। इनके इस्तेमाल का हक सभी को है। यह ठीक वैसा है जैसे एयरस्पेस के मामले में हम करते हैं। लिहाजा, समुद्री रास्ते से आवाजाही में कोई रुकावट खड़ी नहीं कर सकता। अगर इसकी कोशिश या साजिश होती है तो अमेरिका और उसके सहयोगी जवाब देना जानते हैं।

0



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply